लड़की से महिला: ऐसे बदलता है शरीर

Share:

changing body during puberty or teenageकिशोरावस्था (teenage) की शुरुआत के साथ ही शरीर में तेजी से बदलाव आता है और यही बदलाव महिला और पुरुष को शारीरिक रूप से अलग बनाता है। लड़की से महिला बनने के इस सफर में तमाम तरह के बदलाव आते हैं जिनको लेकर लड़कियो के मन में तमाम सवाल उठते हैं। गायनेकॉल्जिस्ट डॉ. कृतिका शर्मा दे रही हैं ऐसे ही तमाम सवालो के जवाब:

कैसे जान पाएंगे कि प्युबर्टी की शुरुआत हो रही है?

आमतौर पर 9 से 13 साल की उम्र के बीच प्युबर्टी की शुरुआत होती है। लेकिन कुछ मामलोँ में यह इससे पहले या इसके बाद भी शुरू हो सकता है। इस दौरान शरीर में एस्ट्रोजन (estrogen hormones) जैसे हार्मोंस की मात्रा बढ जाती है। इसके चलते आपकी छाती (breasts) का आकार बढ्ने लगता है और शरीर में नये तरह के कर्व्ज दिखाई देने लगते हैं। आपकी लम्बाई बढ्ती है और इसी प्रक्रिया के तहत आपकी माहवारी (period) भी शुरू होती है।

शरीर पर क्यूँ आते हैं नये तरह के बाल?

शायद आपने नोटिस किया होगा कि किशोरावस्था में शरीर के उन हिस्सो पर बाल दिखाई देने लगते हैं जहाँ पहले कभी नहीं थे, जैसे कि कांख (under arms), पैरोँ पर और आपके गुप्तांगोँ के आस-पास। शुरुआत में ये बाल हल्के होते हैं पर वक्त के साथ घने होते जाते हैं। शरीर पर बाल होना सामान्य बात है, लेकिन अगर आप इससे छुटकारा पाना चाहती हैं तो अपनी माँ या किसी सहेली से जान सकती हैं कि इसे हटाने का सुरक्षित तरीका क्या है।

मेरी लम्बाई कितनी बढेगी?

प्युबर्टी के दौरान न सिर्फ आपके शरीर में बदलाव आता है, बल्कि इसका तेजी से विकास भी होता है। कई ममलो में इस दौरान लम्बाई भी बहुत तेजी स बढती है, जिसे हम ग्रोथ स्पर्ट (growth spurt) कहते हैं। इस दौरान आपकी लम्बाई एक साल में 4 इंच तक बढ सकती है। आमतौर पर ग्रोथ स्पर्ट की शुरुआत 9 से 11 साल की उम्र के दौरान होती है। अधिकतर  लड़कियो की अधिकतम लम्बाई 18 साल की उम्र तक बढती है।

कब होती है रीयल ब्रा पहनने की जरुरत?

चाइल्ड साइकॉलजिस्ट बताते हैं कि छाती के विकास को लेकर जहाँ कुछ लड़कियो में एक्साइट्मेंट होती है वहीँ बहुत सी लड़कियाँ इसे लेकर शर्मिंदगी भी महसूस करती हैं। दोनो ही मामलो में अनुकूल ब्रा का इस्तेमाल उन्हे सहज महसूस कराने में सहायक हो सकता है। अपनी माँ या किसी सहेली से बात करेँ और अपने लिए अनुकूल ब्रा चुनने में उनकी सहायता लेँ। कई मामलोँ में एक ब्रेस्ट का साइज दूसरे से अलग होता है। निप्पल के आकार और रंग में बदलाव आता रहता है। इससे घबराएँ नहीं। यह विकास की एक प्रक्रिया है।

मेरी स्किन को क्या हो रहा है?

प्युबर्टी की उम्र में मुँहासे (pimples) आना समान्य बात है। 85 से 90 % बच्चे इस समस्या से गुजरते हैं। सामान्य मुँहासे प्युबर्टी की शुरुआत के पहले लक्षण हो सकते हैं। आपको चेहरे के साथ-साथ सीने और पीठ पर भी मुँहासे हो सकते हैं। प्युबर्टी की उम्र में आपके ऑयल ग्लैंड बेहद सक्रिय होते हैं जिसके चलते मुँहासे आते हैं। ऐसे में तनाव, पीरियड की शुरुआत और ऑयली मेकअप से समस्या और बढ सकती है। ऐसे में मेकअप से पर्हेज करेँ, स्किन साफ रखेँ और समस्या अधिक होने पर डॉक्टर की सलाह लेँ। अच्छी खबर यह है कि प्युबर्टी की उम्र निकलने के बाद मुहाँसो  की समस्या अपने आप कम हो जाती है।

मुझे ज्यादा पसीना क्यूँ आता है?

अगर आपको महसूस हो रहा है कि आपको पहले से बहुत ज्यादा पसीना आने लगा है तो परेशान होने की जरुरत नहीं है। प्युबर्टी की उम्र आते ही आपके शरीर के 2 से 4 मिलियन पसीना ग्रंथि (sweat glands) अचानक सक्रिय हो जाते हैं। यही वजह है कि आपको पसीना अधिक आता है, खसतौर से आपके अंडर आर्म्स में। कई बार आपको अधिक गर्मी का एह्सास भी हो सकता है। साथ ही अलग तरह की स्मेल भी शरीर से आ सकती है। यह सब नॉर्मल है। अगर आप खराब स्मेल से परेशान हैं तो डेली दो बार नहाएँ और कोई डियोडरेंट भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

पैंटी क्यूँ दिखती है गंदी?

प्युबर्टी की शुरुआत के बाद अधिकतर लड़कियो को गुप्तांग से तरल (vaginal discharge) निकलता है। ऐसे में पैंटी में सफेद या पीला दाग दिखाई देना सामान्य बात है। यह तरल आपके गुप्तांग को नम और साफ रखने में सहायक होता है। लेकि अगर आपको खुजली, जलन, बदबू या अधिक डीस्चार्ज का एह्सास हो तो अपनी माँ या किसी गरीबी से बात करेँ। यह संक्रमण का लक्षण हो सकता है।

मैं मोटी क्यूँ दिखने लगी?

लड़कियो के शरीर में लड़कोँ की तुलना में अधिक फैट होता है। प्युबर्टी की उम्र के दौरान आपके शरीर में पहले की अपेक्षा अधिक फैट होने का एहसास होता है। खासतौर से कमर के आस-पास। लेकिन जैसे-जैसे आपका प्युबर्टी खत्म होगा वैसे-वैसे यह फैट कर्व्ज में तब्दील हो जाता है। आपकी कमर पतली हो जायेगी और आपके हिप्स, बट और थाई में ज्यादा कर्व्ज आ जाएंग़े।

कब शुरु होगा पीरियड?

अधिकतर मामलोँ में यह हेरिडिटरी होता है। तो आपका पीरियड उस एज में शुरू हो सकता है जिस एज में आपकी माँ या बडी बहन का हुआ था। यह 9 से 16 साल की उम्र के बीच कभी भी हो सकता है। अगर आपका शारीरिक विकास सामान्य रूप से हो रहा है फिर भी आपका पीरियड आपके दोस्तो की तुलना में लेट हो रहा है तो परेशान न होँ। लेकिन अगर आप इंतजार कर रही हैं और अपने साथ पैड और एक्स्ट्रा कपडे लेकर चलती हैं तो पैड या तैम्पून के इस्तेमाल का तरीका अपनी माँ या किसी सहेली से जरुर सीख लेँ।

मेरी सांस को क्या हुआ?

प्युबर्टी की एज में आपके शरीर में बनने वाले एक्स्ट्रा हार्मोंस की वजह से आपके मुँह में समस्या हो सकती है। आपके मसूडे ज्यादा सम्वेदनशील हो सकते हैं और इनमे सूजन भी आ सकती है। ऐसे में दांतो की अच्छी देखभाल, सफाई और डॉक्टर की देखरेख जरूरी है। नियमित देखभाल से आप सांसो की दुर्गंध, मसूडोँ की बीमारी व अन्य दिक्कतोँ से बच सकती हैं।

मैं मॉडल्स की तरह क्यूँ नहीं दिखती?

इस उम्र में लोग अपने लुक्स को लेकर काफी कॉन्शियस होने लगते हैं। ऐसे में आपको यह मह्सूस हो सकता है कि आपके पैर कुछ ज्यादा ही पतले हैं अथवा आपके पेट पर ज्यादा फैट जमा हो गया है। यह सब नॉर्मल है। वक्त के साथ शरीर सही शेप में आ जाता है। फैशन मैगजीन में छपी मॉडल्स की फोटो देखकर परेशान न होँ। उनको परफेक्ट दिखाने में प्रोफेश्नल्स और कैमरा का अहम रोल होता है। आपको हेल्दी डाइट लेने और अपना वजन सामान्य रखने पर ध्यान देना चाहिए।

क्या सब कुछ सामान्य है?

प्युबर्टी की उम्र कई बार डराने वाली भी होती है। शरीर में आने वाले बदलावोँ को लेकर आपके मन में कई तरह के विचार आ सकते हैं। आपके दिमाग में तमाम सवाल भी उठ सकते हैं। ऐसे में एक बात हमेशा याद रखेँ, यह सब नॉर्मल है और हर कोई इस फेज से होकर गुजरता है। ऐसे में किसी भी मामले में बात करने से शर्माएँ नहीं। अपनी माँ, बडी बहन या अपनी दोस्तोँ से खुलकर बात करेँ।

Share:

Leave a reply