बच्ची के कटे हाथ को जोड़ा

Share:

किसी ने सच ही कहा है कि डॉक्टर भगवान का रुप होता है। इस बात को चरितार्थ किया है रायबरेली के डॉक्टर ने। उन्होंने एक बच्ची के कटे हाथ को जोड़ कर उसे नया जीवन दिया है। रायबरेली के गुरु बख्स सिंह इलाके में रह रही श्वेता का हाथ चारा मशीन में कट गया। इस हादसे के दौरान कलाई के आगे का हिस्सा कट गया। आनन-फानन में परिवारजन श्वेता को ट्रॉमा सेंटर लेकर गए। जहाँ डॉक्टरों की टीम ने छः घंटा बच्ची का इलाज किया और उसके कटे हाथ को जोड़ दिया।

कई चरणों में जोड़ा गया हाथ

बच्ची का इलाज कर रहे केजीएमयू अस्पताल के डॉक्टर प्रो. विजय ने बताया कि चारा मशीन में कटे हाथ को कई चरणों में जोड़ा गया है। पहले बच्ची की हाथ की हड्डी को जोड़ा गया। जिसके लिए लिंब सेंटर से दो रेजिडेंट डॉक्टर को बुलाया गया। जिन्होंने एक विशेष तार से हड्डी को जोड़ा। उसके बाद बहते खून को रोकने के लिए सफैलिक वेन को जोड़ा गया। फिर रेडियल और मीडियन आर्टरी को जोड़ा गया ताकि हाथ काम कर सके। हाथ को जोड़ने के बाद उस पर 24 दिन तक प्लास्टर चढ़ाया रखा। मौजूदा समय में बच्ची का हाथ काम कर रहा है। अब भी उसे डॉक्टर की निगरानी में रखा गया है।

दो घंटे के भीतर शुरू हुई सर्जरी

प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रो. विजय ने बताया कि घायल अवस्था में परिवारजन बच्ची को ट्रॉमा सेंटर लेकर आए। दो घंटे के भीतर परिवार ने डॉक्टरों से संपर्क साधा जिसके बाद उन्होंने सात डॉक्टरों की टीम बनाकर  बच्ची की सर्जरी की।

 

 

Share:

Leave a reply