न करें हड्डियों मे अचानक दर्द की अनदेखी

Share:

adopt-a-bone-healthy-lifestyleहड्डी में पीड़ा या हड्डी में लगातार दर्द एक आम समस्या है। हर किसी को सामयिक पीड़ा या दर्द , कंधे में हल्की वेदना या घुटने में टीस महसूस होती है। हालांकि यह उम्रदराज या मध्यम आयु वर्ग के लोगों के बीच ज्यादा देखी जाती है। शोध से भी यह पता चला है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिकतर और अधिक गंभीर रूप से यह समस्या प्रभावित करती है। भले ही हड्डियों में दर्द की समस्या अमूमन बोन डेंसिटी (bone density) कम होने के कारण या फिर हड्डियों में चोट लगने के कारण होती है, लेकिन यह किसी अंतर्निहित गंभीर चिकित्सा हालत का संकेत भी हो सकती है।  हड्डियों में अचानक दर्द (sudden pain) उठने के अनेकों कारण हो सकते हैं। अचानक दर्द आघात या शरीर के किसी अंग विशेष के अति प्रयोग, आटोइम्यून कंडीशन (auto immune conditions), संक्रामक रोगों, मेटास्टैटिक मलिग्नन्सी (द्रोह) और रक्त की आपूर्ति में बाधा के कारण भी हो सकता है। इसी तरह पुराने आस्टियोआर्थराइटिस, गठिया, ल्युपस या सिकल सेल एनीमिया के चलते भी अचानक जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है।

उपचार से बचाव के लिए:
हड्डियों में दर्द की अनदेखी करने पर गंभीर परिणाम हो सकते हैं, जबकि समय पर इसका उपचार कराने से तुरंत आराम के प्रति आश्वस्त हो सकते हैं।
नीचे कुछ सरल उपाय सुझाए गए हैं,जिनका कार्यस्थल पर या घर में पालन किया जा सकता है:
सामान्य सलाह:

      -मांसपेशियों में खिंचाव से बचने के लिए हर 20 मिनट में खड़े हो जाओ। डेस्क पर काम करनेवाले लोगों के लिए लंबे समय तक एक स्थिति में बने रहने से बचने के लिए यह महत्वपूर्ण कदम है।

 

      -हल्की स्ट्रेचिंग करें, मसलन अपने हाथ को कमर के निचले हिस्से तक ले जाकर पीछे की ओर खिंचाव की स्थिति में जाएं। डेस्क पर ट्विस्टंग (घुमाव), सिर को अगल-बगल घुमाना और ठुड्डी को सिकोड़ना जैसी साधारण स्ट्रेचिंग भी मददगार साबित होती है।

 

      -थोड़ी चहलकदमी करें। पैरों को गति प्रदान करें.

 

      -बैठने के दौरान अपनी मुद्रा का विशेष ध्यान रखें। अच्छी तरह बैठें।

 

      -कैल्शियम युक्त भोजन का सेवन करें, जिसमें दही, दूध, पनीर, सारडिन, सोयाबीन, पत्तेदार सब्जियां, ब्रोकोली आदि शामिल हैं।

यदि आपको लंबे समय तक हड्डियों में अस्पष्ट दर्द बना रहता है तो डॉक्टर से अवश्य परामर्श ले लें, क्योंकि ऐसे मामलों में सर्जरी की आवश्यकता पड़ सकती है। गंभीर आर्थराइटिस के मामले में ज्वाइंट रिप्लेशमेंट दर्द से छुटकारा दिलाने में कारगर हो सकता है। पिछले कुछ दशकों में सर्जरी के क्षेत्र में उन्नत विकल्प सामने आए हैं।

Dr. Ramneek Mahajan,

Director, Joint Reconstruction Unit,

Saket City Hospital, New Delhi

Share:

Leave a reply