पापा की आदत व उम्र बनाती है बच्चे की सेहत

Share:

babyमा की लाइफस्टाइल और फिटनेस का असर उसके आने वाले बच्चे पर पड्ता है यह बात तो हम सभी जानते हैं लेकिन एक नई स्टडी ने पापा की उम्र और लाइफस्टाइल से बच्चे की हेल्थ पर पडने वाले असर को भी स्पश्ट कर दिया है। इसके मुताबिक, पुरुषो का खान-पान और उनकी उम्र उनके अजन्मे बच्चे मे जन्मजात खामियो, अ‍ॅटीज्म, मोटापा, मानसिक बीमारियो आदि का कारण बन सकती है ।

जोर्जटाउन युनिवर्सिटी मे बायोकेमिस्ट्री, मालिक्युलर और सेल्युलर बायलॅजी की असिस्टेंट प्रोफेसर जोना किट्लिंस्का इस सम्बंध में की गई दर्जनो स्टडीज का आंकलन किया । इसमे उन्होने पाया की पुरुषो की जीवनशैली और खान-पान का असर उनके जीन पर पड्ता है। इससे होने वाले बदलावो का असर उनके बच्चो और पोते- पोतियो तक भी पहुंचता है । उदाहरण के तौर पर मोटापे की वजह से व्यक्ति के जीन मे कुछ ऐसे बदलाव हो सकते हैं जो उनकी आने वाली पीढी मे मोटापे का खतरा बढा सकते हैं । इसी तरह से तम्बाकू उत्पादो के इस्तेमाल से स्पर्म डैमेज हो सकते हैं जिसका असर उनके बच्चो मे जन्मजात खामियो के रुप मे सामने आ सकता है।

उम्र का असर
किट्लिंस्का की टीम ने अपने रिव्यू मे पाया कि 40 साल से अधिक उम्र में जो लोग पिता बनते हैं उनके बच्चो में अ‍ॅटिज्म होने का खतरा उनसे कई गुना अधिक होता है जिनके पिता की उम्र 30 वर्ष से कम होती है । अधिक उम्र मे जन्मे बच्चो मे सिजोफ्रेनिया होने का खतरा भी अधिक होता है ।

एक अन्य स्टडी मे यह भी पाय गया कि अधिक उम्र वाले पिता के जन्मजात दिल की बीमारी और डाउन सिंड्रोम होने का खतरा भी ज्यादा रहता है । ऐसे खतरो की शुरुआत 35 से अधिक उम्र मे पहुंचते ही हो जाती है और 50 से अधिक उम्र होने पर खतरा काफी ज्यादा बढ जाता है ।

खान-पान का असर
अक्सर मोटे पुरुषो के बच्चे भी मोटापे का शिकार होते हैं । ऐसे बच्चो मे डायबीटीज, असामान्य मेटाबोलिज्म और कुछ खास प्रकार के कैंसर होने की अशंका अधिक रहती है ।

अल्कोहल
फीटल एल्कोहल स्पेक्ट्रम डिसार्डर से पीडित हर 4 मे से 3 बच्चो के पिता एल्कोहलिक होते हैं । ऐसे बच्चो में जन्म के समय सामान्य से कम वजन, दिमागी विकास ठीक से न होने  और लर्निंग डिसेबिलिटी जैसी समस्या होती है ।

आमतौर पर लोग मानते हैं कि ये दिक्कते मा के एल्कोहलिक होने से ही होती हैं, लेकिन इस नये रिव्यू ने पुरानी धारणा को बदल दिया है। इस रिव्यू ने साबित कर दिया है कि पिता अगर एल्कोहल का इस्तेमाल करते हैं तो उनके बच्चो का जीन प्रभावित हो सकता है, बेशक उनकी मा ने कभी एल्कोहल न लिया हो ।

बहुत ज्यादा तनाव
एक एनिमल स्टडी मे पाया गया है कि बहुत ही ज्यादा तनाव मे जीने वाले पिता के बच्चो मे बिहेवियर सम्बंधी दिक्कते सामने आ सकती हैं । यह स्टडी फिलहाल चूहो पर की गई है। इंसानो पर इसके ट्रायल का रिजल्ट आना बाकी है ।

Share:

Leave a reply