ये डाइट दिलाएगी डिप्रेशन से निजात

Share:

·        How to fight depression naturally with nutrition आज के समय में डिप्रेशन (depression) एक आम समस्या बन चुकी है। दुनियाभर में तकरीबन 350 मिलियन लोग इसकी चपेट में हैं। भारत में, खासतौर से शहरी इलाकोँ में हर 5 में से एक व्यक्ति को डिप्रेशन की समस्या है। अनुमान के मुताबिक इस मानसिक समस्या से ग्रस्त करीब 50 मिलियन लोग गम्भीर स्थिति में हैं और आत्महत्या (suicide) जैसे कदम भी उठा सकते हैं।

समस्या की गम्भीरता को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इस बार विश्व स्वास्थ्य दिवस (World Health Day) के लिए डिप्रेशन थीम रखा है। ऐसे में इस पूरे साल डिप्रेशन के सम्बंध में जागरुकता अभियान चलाए जाएंगे। इसी सिलसिले को आगे बढाते हुए हमारी एक्सपर्ट न्युट्रीशनिस्ट शीला सहराव बता रही हैं कुछ ऐसी चीजो के बारे में जिन्हे अपने खान-पान का हिस्सा बनाकर आप न सिर्फ खुद को डिप्रेशन से दूर रख सकते हैं बल्कि अगर समस्या से जूझ रहे हैं तो इनसे आपको राहत भी मिल सकती है। शीला www.dietclinic.in की फाउंडर हैं।

  1. ग्रीन टी: इसके कई लाभ हैं। एंटी ऑक्सिडेंट और एमिनो एसिड जैसे गुणो की वहग से यह प्राकृतिक रूप से डिप्रेशन से मुकाबला करती है। अच्छी सेहत और डिप्रेशन से दूर रहने के लिए रोज 3 से 4 कप ग्रीन टी ले सकते हैं।
  2. बादाम: इसमे भरपूर एनर्जी के साथ-साथ डिप्रेशन से मुकाबला करने वाले तत्व भी होते हैं। इसमे मैग्नीशियम होता है जो कि सीरोटोनिन (serotonin) बनने में सहायक होता है। यह ब्रेन में बनने वाला एक ऐसा केमिकल है जो आपको खुश रहने में सहायता करता है।
  3. सैल्मन: सैल्मन फिश ओमेगा-3 फैटी एसिड का बेहतरीन स्रोत है। ओमेगा-3 फैटी एसिड डिप्रेशन से मुकाबला करने में सहायक है। यह शरीर में सूजन भी कम करता है।
  4. डार्क चॉकलेट: इससे ब्रेन में सीरोटोनिन केमिकल अधिक मात्रा में बनता है और स्ट्रेस हार्मोन का प्रॉडक्शन कम होता है, जिसके चलते अवसाद (anxiety) कम होता है। इतना ही नहीं, डार्क चॉकलेट में मिलने वाला फ्लैवेनॉइड्स फटीग सिंड्रोम (chronic fatigue syndrome) को भी कम करता है।
  5. अंडे: अंडे प्रोटीन और ज़िंक से भरपूर होते हैं। यह एक माइक्रोन्युट्रिएंट है जो कि न्युरोट्रांसमिटर के बनने और उनके सुचारु रूप से संचालन में मददगार साबित होता है। ज़िंक एक बेहतरीन एंटीडिप्रेजेंट (antidepressants) है। अंडोँ से आपको भरपूर मात्रा में विटामिन डी भी मिलता है जो कि डिप्रेशन से मुकाबला करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  6. केला: यह बेहद पौष्टिक फल है जिसमे भरपूर मात्रा में ट्राइपटोफन (tryptophan) होता है जो कि आपके शरीर में सीरोटोनिन की मात्रा बढाता है। यह टायरोजाइन (tyrosine) को बनाने में भी सहायक होता है। यह एक ऐसा तत्व है जो दो प्रमुख न्यूरोट्रांसमिटर नोरपाइनफ्रिन (norepinephrine) और डोपामाइन (dopamine) को बढाने का काम करता है। इससे आपका मूड अच्छा रहता है।
  7. अ‍ॅवोकैडो: इसमे काफी अधिक मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है। इसमे ट्राइप्टोफन अधिक होता है जो कि एक अमीनो एसिड है और आपका तनाव कम करके आराम दिलाता है।
  8. बेरी: ब्लूबेरी, रस्पबेरी, स्ट्रॉबेरी और ब्लैकबेरी जैसे फल एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं। इनमे बी-कॉम्प्लेक्स जैसे पोषक तत्व होते हैं जो आपका मूड ठीक करता है। साथ ही इसमे सेलेनियम, ज़िंक और पोटैशियम भी होता है। ये सारे न्युट्रिएंट्स आपके ब्रेन को सही ढंग से काम करने में मददगार होते हैं।
  9. अस्परैगस: शरीर में फोलिक एसिड की मात्रा कम होने से भी डिप्रेशन का समबंध होता है। अस्परैगस इस कमी को दूर करने में कारगर होता है। साथ ही इसमे विटामिन बी भी होता है जो कि आपका मूड ठीक करता है। इसमे ट्राइप्टोफन भी होता है जो ब्रेन सीरोटोनिन के उत्पादन में सहायक होता है और सीरोटोनिन डिप्रेशन व एंग्जाइटी रोकने में मददगार होता है।
  10. अखरोट: ऐसे तो सारे नट्स हेल्थ के लिये अच्छे होते हैं लेकिन अखरोट में ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है जो कि आपके ब्रेन के लिये अच्छा होता है, ब्रेन की कार्यक्षमता में सुधार करता है और डिप्रेशन के लक्षणो को कम करता है।
  11. टमाटर: इसमे फोलिक एसिड और अल्फा-लिपोइक एसिड होता है। फोलिक एसिड शरीर में अधिक मात्रा मे होमोसिस्टीन बनने से रोकता है। होमोसिस्टीन एक ऐसा तत्व है जो ब्रेन की सामन्य कार्यवाही में सहायक तत्वो जैसे कि सीरोटोनिन, डोपामाइन और नोर्पाइन्फ्रिन को बनने से रोकता है। अल्फा-लिपोइक एसिड शरीर में ग्लूकोज को एनर्जी में तब्दील करने और आपका मूड स्थिर रखने में सहायक होता है।
  12. प्याज: प्याज और इसके जैसी अन्य सभी सब्जियो में फ्लैवेनॉइड्स भरपूर मात्रा में होता है। फ्लैवेनॉइड एक एंटी-इंफ्लेमेटरी एंटीऑक्सिडेंट है जो आपके पाचन तंत्र और ब्रेन के बीच तालमेल बिठा कर रखता है। यह पेट के कैंसर से बचाव कर सकता है और आपका मूड स्थिर रखने में सहायक होता है।
  13. मशरूम: इसके दो बेहतरीन लाभ हैं: पहला, इसमे इंसुलिन जैसे केमिकल होते हैं जो कि ब्लड शुगर लेवल को कम करते हैं और दूसरा: यह प्रोबायटिक की तरह काम करता है और आंतो मे स्वस्थ बैक्टीरिया के पनपने में सहायक होता है। आंतो के गुड बैक्टीरिया हमारे शरीर का 80 से 90% सीरोटोनिन का उत्पादन करते हैं। सीरोटोनिन हमें मानसिक रूप से स्वस्थ रखने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  14. सेब: इसमे एंटीऑक्सिडेंट काफी अधिक मात्रा में होते हैं जो कि आपके शरीर की कोशिकाओ में होने वाले ऑक्सिडेशन डैमेज और इंफ्लेमेशन को ठीक करता है। साथ ही, इसमे सॉल्युबल फाइबर काफी अधिक होता है जो ब्लूड शुगर का स्तर ठीक रखता है और आपके मानसिक स्वास्थ्य को ठीक रखता है।
  15. हल्दी: यह भारत सहित पूरे एशिया के किचन में सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाला मसाला है। यह आपके दिमाग की कर्यक्षमता बढाता है। इसमे एंटीबैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व भी होते हैं। इसके साथ ही हल्दी में टर्मेरॉन और कर्क्युमिनॉइड्स होते हैं जो कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाते हैं।
Share:

Leave a reply