इन्हें जमीन पर मत रखिए…

Share:

foot care in winter
मौसम का मूड बदल रहा है और इसके साथ ही ठंड की दस्तक भी सुनाई दे रही है। इसके साथ आ रही त्योहारों की धमक मन की उमंग बढ़ा रही है, लेकिन साथ ही स्किन की समस्याएँ भी सामने आने को तैयार हैं। आपके पैरों की स्किन सबसे ज्यादा तकलीफ झेलती है, क्योंकि पैरों सबसे ज्यादा अनदेखी का सामना करते हैं। तो अपनाएं ये टिप्स और पैरों को कर लें विंटर रेडी:

डेड स्किन हटाएँ: डेड हो चुकी त्वचा को मॉइश्चराइज करने से कोई फायदा नहीं होगा। सबसे पहले त्वचा की डेड हो चुकी बाहरी परत को हटाना जरूरी है। इसके लिए महीने में एक बार एक्सफोलिएशन करें। इसके लिए झांवा या लूफा का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन ऐसा हल्के हाथों से करें, रगड़ें नहीं। इसके बाद पैरों में हाइड्रेटिंग मॉइश्चराइजर लगाकर रात भर छोड़ दें।

होम मेड स्क्रब का जवाब नहीं: आप होम मेड स्क्रब का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। शुगर और ऑलिव ऑयल लें, इसमें मिंट या टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें मिलाकर इससे पैरों की मसाज करें। इससे डेड स्किन निकल जाएगी। टी ट्री ऑयल में एंटी बैक्टीरियल तत्व होते हैं।

पैरों को भी चाहिए दुलार: पैरों को हल्के गर्म पानी में 10-15 मिनट के लिए डुबो कर रखें। इससे पैरों की त्वचा मुलायम हो जाएगी। अब हल्के हाथ से रगड़ें। मुलायम तौलिए से पैरों को अच्छी तरह से सुखा लें, फिर त्वचा पर विटामिन-ई युक्त कोल्ड क्रीम लगाएं। अगर आपके पैर इन्फेक्शन और सूजन को लेकर संवेदनशील हैं तो कोई एंटी बैक्टीरियल क्रीम लगाएं। यह प्रक्रिया महीने में दो बार दोहराएं।

पैरों को दें पोषणः केला मैश करके इसमें नींबू का रस मिलाएं और इसे पैरों की त्वचा पर हाइड्रेटिंग मास्क की तरह लगाएं। इस मिक्चर को पैरों पर अच्छे से लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद गुनगुने पानी से पैर धो लें। पैरों में दिन में कम से कम दो बार मॉइश्चराइजिंग फुट क्रीम या पेट्रोलियम जेली लगाएं। एक बार सुबह घर से बाहर निकलते समय और दोबारा रात में सोने से पहले इसे इस्तेमाल करें।

खूब सारा पानी पीएं: चूंकि ठंड में रूखी और तेज हवा चलती है और ठिठुरन से बचने के लिए आप हर समय ब्लोवर आदि के पास बैठे रहना पसंद करते हैं, ऐसे में त्वचा की नमी खत्म हो जाती है। इसे बरकरार रखने के लिए खूब सारा पानी पीते रहें।

जुराबें पहनें: सर्दियों में अपनी त्वचा को सुरक्षित रखने के लिए जुराबें पहनें। ये भी उतने ही जरूरी हैं जितने कि आपके स्कार्फ, कैप और दस्ताने। जुराबें आपके पैरों की त्वचा को मौसम की मार से बचाएंगे। इससे पैरों में लगी क्रीम के साथ धूल-मिट्टी भी नहीं चिपकेगी।

आरामदायक जूते ही पहनें: हमेशा वैसे ही जूते पहनने चाहिए जिसमें आपको आराम महसूस हो। अगर आपकी एड़ियों में दर्द या चुभन है तो कभी भी टाइट या उंची एड़ी के जूते न पहनें। इससे आपकी त्वचा में संक्रमण हो सकता है अथवा त्वचा छिल सकती है।

स्किन स्पेशलिस्ट की सलाह लें: अगर आपके पैरों की त्वचा में जलन या सूजन हो रही हो अथवा पपड़ी जैसे उतर रही हो तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं। ऐसा त्वचा की गंभीर एलर्जी की वजह से हो सकता है, जिसमें तुरंत इलाज की जरूरत हो सकती है।

पसीना ज्यादा तो बोटॉक्स ट्रीटमेंट: सर्दियों में गर्म और संभव हो तो ऊनी जुराबें पहनना बेहद जरूरी है। हालांकि कुछ लोगों को हाइपरहाड्रोसिस की समस्या भी होती है, जिसमें बहुत ज्यादा पसीना आता है। ऐसे लोगों के पसीने को मौसम से कोई फर्क नहीं पड़ता है। ऐसे में बोटॉक्स एक जादुई इलाज की तरह काम करता है। यह पसीना आने से रोकता है और पैरों को सूखा रखता है।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply