महिलाओं की डाईट में प्रोटीन की कमी

Share:

junk food

सेहत के मामले में देश की आधी आबादी कम जानकारी होने के कारण थायरॉयड, मोटापा और दिल की बीमारी का शिकार हो रही है। इस बाबत किए गए एक अध्ययन में देखा गया कि महिलाएं पुरुषों के मुकाबले अधिक कार्बोहाइड्रेट लेती हैं। आलू, टिक्की, चावल और मैदे से बने खाद्य पदार्थ महिलाओं की दस पसंदीदा चीजों में प्रमुख हैं। 

खाने और सेहत को लेकर महिला तथा पुरुषों की पसंद को लेकर हेल्थीफाई मीटर द्वारा एक सर्वेक्षण कराया गया। मोबाइल एप आधारित इस सर्वे में जेंडर वॉच के तहत खाने की आदतों पर महिला और पुरुषों की राय जानी गई। अध्ययन में शामिल एक लाख महिलाओं और पुरुषों की पसंद तथा नापसंद के आधार पर देखा गया कि महिलाएं सेहत के लिए अधिक फिक्रमंद नहीं होती हैं। पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं के खाने की थाली में कार्बोहाइड्रेट और वसा अधिक होता है। खाने के मेन्यू में आलू, चाट, टिक्की, गोल-गप्पे, समोसा और चावल महिलाओं की प्रमुख पसंद हैं, जबकि पुरुषों के पसंदीदा खाने में मटन, चिकन और कोरमा मुख्य हैं। दिल्ली, चंडीगढ़, बंगलूरू और पुणे में महिलाओं के खाने में प्रोटीन की 40 प्रतिशत कमी देखी गई, जबकि लुधियाना में यह आंकड़ा केवल दस प्रतिशत था।

सर्वेक्षण के प्रमुख मेदांता मेडसिटी के इंडोक्रायनोलॉजिस्ट डॉ. अंबरीश मित्तल ने बताया कि सेहत को लेकर महिलाओं की जानकारी बेहद कम है। खाने में प्रोटीन की कम मात्रा का असर मांसपेशियों पर पड़ता है, जो लंबे समय बाद जोड़ों में दर्द की वजह बन सकता है।

खाने की पसंद पर एक नजर

29.2 प्रतिशत महिलाएं अधिक कार्बोहाइड्रेट का सेवन करती हैं, जबकि पुरुषों में यह आंकड़ा 24.1 प्रतिशत है

16.2 प्रतिशत महिलाएं फलों का सेवन करती हैं, जबकि पुरुषों में यह आंकड़ा 10.3 प्रतिशत है

4 प्रतिशत महिलाएं दोपहर के खाने में चावल का प्रयोग करती हैं, जबकि 13.1 प्रतिशत पुरुष खाने में रोटी पसंद करते हैं

23 प्रतिशत महिलाएं रोजाना वॉक करती हैं, जबकि 56 प्रतिशत पुरुष रोजाना 50 से 60 कदम से अधिक चलते हैं।

12.4 प्रतिशत महिलाएं रोजाना दूध का सेवन करती हैं, जबकि पुरुषों में यह आंकड़ा 14 प्रतिशत है।

मोबाइल एप से किए गए अध्ययन में एक लाख महिला और पुरुषों से दस प्रश्न किए गए। सात प्रमुख शहरों में किए गए अध्ययन में दिल्ली भी शामिल है।

 

Share:

Leave a reply