जल्द जांच तो दो तिहाई कैंसर का इलाज संभव

1311
0
Share:

national-cancer-awareness-day
सरकार  कैंसर के प्रमुख कारणों के बारे में जागरूकता बढाकर राष्ट्रीय स्तर पर कैंसर की बीमारियों के बोझ को कम करना चाहती है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन  का कहना  है कि यदि कैंसर का पता पहले लग जाता है तो कम खर्च करके इसका इलाज किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि 7 नवंबर को देशभर में राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस मनाया जाएगा। अब हमें इस बीमारी के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़नी चाहिए। देशभर में कैंसर के 1.1 लाख नए मामलों के साथ लगभग 2.9 लाख कैंसर के मामले दर्ज किए जाने का अनुमान है। दो तिहाई कैंसर के मामलों का इलाज प्राथमिक चरण में ही हो जाता है।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि नब्बे के दशक के आरंभ में जब वह दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री थे, तो उन्होंने कैंसर नियंत्रण पर पहले राष्ट्रीय स्तर के आंदोलन की शुरुआत की थी और प्रत्येक वर्ष एक विशिष्ट दिन लोगों को सरकारी अस्पतालों, सीजीएचएस और नगर निगम के अस्पतालों में निःशुल्क जांच के लिए प्रोत्साहित किया जाता था। कैंसर से बचने के लिए और इसके प्रारंभिक लक्षणों की देखरेख पर जागरूकता के लिए सूचना पुस्तिकाओं को व्यापक स्तर पर वितरित किया गया था।

कुमारापुरम, तिरुवनंतपुरम में क्षेत्रीय कैंसर केन्द्र द्वारा आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने इसी संदर्भ में  केरल सरकार के प्रस्तावित ‘’सुहुरथम’’ के प्रयासों की सराहना की जो अस्पतालों और जिला मेडिकल कॉलेजों में निशुल्क कैंसर का उपचार करेगी। उन्होंने  कहा कि ‘’मैं इस विचार से सहमत हूँ और मैं पूरी कोशिश करूंगा कि 13वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान इसे देशभर में लागू किया जाए। मैं प्रस्तावित सार्वभौमिक स्वास्थ्य बीमा घटक के तहत इसे लागू करने की कोशिश करूंगा। स्वास्थ्य मंत्री ने विश्वास जताया कि यदि किसी का स्वास्थ्य बीमा है तो आम आदमी पर प्रीमियम का बोझ काफी हद तक कम हो जाएगा।   उन्होंने मातृ और शिशु मृत्युदर में केरल के रिकॉर्ड की सराहना की। उन्होंने कहा कि केरल पूरे विश्व में एक सफल विकास की कहानी का उदाहरण हो सकता है।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0
TagsCancer

Leave a reply