टिप्स जो दिलाएँगे खराब गले को आराम

Share:

gargling-with-salt-water
गला खराब (sore throat) होना सामान्य कफ-कोल्ड का पहला लक्षण हो सकता है, स्वर तंत्री (vocal cords) मे खिंचाव का नतीजा हो सकता है अथवा इसके लिए स्ट्रेप्टोकोकी (streptococci) जैसा कोई बैक्टीरियल संक्रमण भी जिम्मेदार हो सकता है। वजह चाहे जो भी हो, लेकिन यह समस्या बेहद आम है और हर तरह के सोर थ्रोट मे सबसे अहम है शुरुआत मे ही ऐसे उपाय करना जिनसे आपको तुरंत आराम मिले। परेशानी बढ़े नहीं। ऐसी स्थिति मे अक्सर लोग भागकर डॉक्टर के पास जाना चाहते हैं, लेकिन एक्सपर्ट्स यह मानते हैं कि कुछ घरेलू उपाय और ओवर द काउंटर दवाएं भी जादुई असर दिखा सकती हैं। आइए जानते हैं ऐसे 9 उपायों के बारे में:

1. एंटी इन्फ़्लेमेटरी: सोर थ्रोट के प्रभावी इलाजों मे से एक संभवत: आपकी फर्स्ट एड किट मे पहले से उपलब्ध होगा। यह उपाय है ओवर द काउंटर, नॉन स्टेरॉयडल एंटी इन्फ़्लेमेटरी ड्रग्स (NSAID)।
“ये दवाएं दर्द निवारक और एंटी इन्फ़्लेमेटरी तत्वों से मिलकर बनी होती हैं। यही वजह है कि इससे सोर थ्रोट की वजह से होने वाली सूजन से राहत मिलती है। साथ ही अगर बुखार है तो उससे भी आराम मिलता है।”

2. नमक के पानी का गरारा: बहुत सारे अध्ययनों मे पाया गया है कि नमक के पानी का गरारा (gargling) कई बार करने से गले मे न सिर्फ सूजन बल्कि म्यूकस भी कम होता है। इसके साथ ही इरिटेंट्स और बैक्टीरिया भी बाहर निकल जाते हैं।
आमतौर पर डॉक्टर एक कप गरम पानी मे आधा चम्मच नमक घोलकर गार्गल करने की सलाह देते हैं। अगर नमक का टेस्ट अच्छा न लगे तो इसके साथ थोड़ा सा शहद भी मिला सकते हैं। एक बात याद रखें, गार्गल करके पानी को पिएं नहीं, इसे थूक दें।

3.एंटीइन्फ़्लेमेटरी चॉकलेट्स: एंटीइन्फ़्लेमेटरी चॉकलेट्स मुंह मे लार (saliva) का प्रॉडक्शन बढ़ाते हैं, जिससे गले मे नमी बनी रहती है। हालांकि अधिकतर वैरायटीज़ अब सामान्य कैंडी से ज्यादा प्रभावी नहीं रह गए हैं। ऐसे मे ज्यादा फ़ायदे के लिए ऐसा ब्रांड चुनें जिसमे कूलिंग इफेक्ट हो, जैसे कि मेंथोल या यूकेलिप्टस।

4. कफ सिरप: भले ही आपको खांसी न हो, ओवर द काउंटर कफ सिरप आप के गले को आराम पहुंचा सकते हैं। ये गले मे एक परत कि तरह काम करते हैं और दर्द से कुछ समय के लिए आराम दिलाते हैं।
लेकिन अगर आपको काम पर जाना हो तो ऐसे फॉर्मूला वाला सिरप लें जिससे नींद न आए। लेकिन अगर आपको खांसी की वजह से नींद नहीं आ रही हो तो कोई ऐसा फॉर्मूला काम आ सकता है जिससे दर्द से राहत मिले और नींद आ जाए।

5. तरल: हाइड्रेटेड रहना बहुत जरूरी है, खासतौर से जब आप बीमार हों और गले मे समस्या हो। ऐसे मे आपको भरपूर मात्रा मे पानी पीना चाहिए। इससे म्यूकस मेंबरेंस मे नमी रहेगी और आपका शरीर बैक्टीरिया, इरिटेंट्स और कोल्ड के अन्य लक्षणों से लड़ने मे सक्षम रहेगा। पानी हमेशा बेहतर विकल्प होता है। लेकिन अपनी सुविधा और रुचि के हिसाब से आप पानी, फलों का जूस या सूप जैसी चीजें भी ले सकते हैं।

6. चाय: पानी पीकर थक चुके हैं तो एक कप हर्बल चाय ट्राई कीजिए। इससे आपके गले को तुरंत आराम मिलेगा। आप नॉन-हर्बल चाय भी ले सकते हैं। ब्लैक टी, ग्रीन या व्हाइट टी का इस्तेमाल इसके लिए कर सकते हैं। चाय मे एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो इम्युनिटी बढ़ाते हैं और इन्फेक्शन से बचाते हैं। ज्यादा फायदे के लिए इसमे एक चम्मच शहद भी मिला सकते हैं।

7. चिकन सूप: यह कोल्ड मे इस्तेमाल होने वाला बरसों पुराना नुस्खा है। सूप मे मिले सोडियम मे एंटी इन्फ़्लेमेटरी तत्व होते हैं। जब आप बीमार होते हैं तब सूप का अन्य लाभ भी होता है, अगर सोर थ्रोट की वजह से आपको तकलीफ हो रही है तो पीने की ऐसी चीजें आपको भरपूर पोषण देती हैं, जिससे आप इन्फेक्शन से आसानी से लड़ सकते हैं।

8. आराम: यह तुरंत राहत दिलाने वाला उपाय बेशक न हो, लेकिन सोर थ्रोट के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया से लड़ने मे यह महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सोर थ्रोट के अधिकतर मामलों के लिए कोल्ड-कफ के वायरस जिम्मेदार होते हैं और यह बात हम सब जानते हैं कि इन वायरस का कोई खास इलाज उपलब्ध नहीं है। ऐसे मे आराम करने से आपका शरीर वायरस से आसानी से लड़ता है और आपको जल्दी राहत मिलती है।

9. एंटीबायटिक्स: एंटीबायटिक्स सिर्फ और सिर्फ उन मामलों मे डॉक्टर प्रेस्क्राइब करते हैं जिनमे सोर थ्रोट के लिए बैक्टीरिया जिम्मेदार होता है। एडल्ट लोगों मे सोर थ्रोट के तकरीबन 10% मामलों में इन्फेक्शन बैक्टीरियल होता है। लेकिन किसी भी मामले मे एंटीबायटिक तभी दिया जाता है जब टेस्ट पॉज़िटिव हो। वायरल इन्फेक्शन मे एंटीबायटिक लेने का कोई लाभ नहीं होता।

Share:

Leave a reply