जल्द प्रेग्नेंसी के लिए बेस्ट डाइट

Share:

 

best diet for early parenthoodपैरेंटहुड  (parenthood)में आपका खान-पान  (diet)भी अहम भूमिका निभाता है। अगर कोई कपल बच्चा लाने की प्लानिंग कर रहा है तो उसे अपनी डाइट को लेकर भी गम्भीर हो जाना चाहिए। यहाँ एससीआई इंटरनेशनल हॉस्पिटल की न्युट्रीशनिश्ट कृती मिश्रा आपको बता रही हैं उन 5 फूड कैटिगरीज के बारे में, जिन्हे आपको ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करना चाहिए। इससे न सिर्फ आपका पैरेंटहुड ज्यादा सुखद होगा बल्कि आपके आने वाले बच्चे की सेहत के लिए भी फायदेमंद रहेगा।

  1. फोलिक एसिड

अगर आप अगले एक साल मे कभी भी प्रेग्नेंट होने की तैयारी कर रही हैं तो अपने आहर मे भरपूर मात्रा मे फोलिक एसिड शामिल कीजिए। अपने डॉक्टर की सलाह से आप इसका सप्लिमेंट भी ले सकती हैं। फोर्टिफाइड साबुत अनाज, फोर्टिफाइड सीरियल्स, सब्जियो और रसीले फल मे फोलिक एसिड अधिक मात्रा में मिलता है।

  1. बेहतरीन क्वालिटी का भोजन

फर्टिलिटी की समस्या से जूझ रहे कपल्स पर की गई एक स्टडी में पाया गया है कि ज्यादा प्रोटीन और कम कार्बोहाइड्रेट्स वाले खान-पान से प्रेग्नेंसी रेट बढ्ता है । 25% से अधिक प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा 40% से कम वाली डाइट लेने से अंडाणु की गुणवत्ता बढ्ती है और आइवीएफ ट्रीटमेंट की सफलता की दर बढ जाती है ।

फर्टिलिटी के लिए आपकी डाइट में अच्छी क्वालिटी का प्रोटीन जरुर होना चाहिए । ऐसे प्रोटीन का इस्तेमाल करना चाहिए जिसमे सभी आवश्यक एमिनो एसिड मौजूद हो। अंडे, अंडे की सफेदी, सफेद मीट और मछली खासतौर से वे जिसमे ओमेगा 3 फैटी एसिड अधिक मात्रा मे होता है, आदि इसके बेहतरीन स्रोत हैं। अगर आप वेजिटेरियन हैं तो बींस, फली, सोया और दूध व दूध के अन्य उत्पाद आपके लिए हेल्दी प्रोटीन के स्रोत हो सकते हैं । इनमे आयरन भी भरपूर मात्रा में होता है।

  1. ओमेगा 3 फैटी एसिड

जब आप प्रैग्नेंट हो जाती हैं तब बच्चे के दिमागी विकास के लिए ओमेगा-3 बेहद महत्वपूर्ण होता है। लेकिन आपको प्रेग्नेंसी की प्लानिंग के समय से ही इसे लेना शुरू कर देना चाहिए क्योंकि आपके शरीर मे हार्मोंस की संतुलित क्रियाशीलता के लिए यह जरुरी होता है। ऐसे में आपको आने वाले कुछ महीनो मे गर्भवती होने मे आसानी हो सकती है। ओमेगा-3 फैटी एसिड के लिए अपने रोज के आहार मे फलैक्स सीड यानी तीसी का बीज अथवा हर हफ्ते मछली शामिल कर सकती हैं। इसका इस्तेमाल आप स्मूदी, योगर्ट या सलाद मे कर सकते हैं अथवा होल ग्रेन सीरियल्स व ड्राइ फ्रूट्स के साथ मिलाकर ले सकते हैं। आप खाना बनाने के लिए भी फ्लैक्स सीड या चिया सीड के तेल का इस्तेमाल कर सकती हैं।

  1. फुल फैट डेयरी

जब भी आप अपने शरीर को प्रेग्नेंसी के लिए तैयार कर रही होती हैं तब आपको भरपूर कैल्शियम और प्रोटीन की जरुरत होती है। ऐसे मे आपके डेयरी उत्पाद यानी दूध य दुध से बने अन्य उत्पाद भरपूर मात्रा मे लेने चाहिए। एक स्टडी में पाया गया है कि जो महिला नियमित रुप से फुल फैट दूध अपनी डाइट मे लेती हैं उन्हे कुछ खास प्रकार की इंफर्टिलिटी होने का खतरा कम रहता है। शरीर को प्रेग्नेंसी के लिये तैयार करने के लिये आवश्यक न्युट्रिएंट्स आपको मिले इसके लिये अपने खाने मे डेयरी फैट भी शामिल करे।

5- फल व सब्जिया

अगर आप पहले से भरपूर मात्रा मे फल व सब्जिया ले रही हैं तो भी अब आप इसकी मात्रा जितना बढा सकती हैं बढा दीजिए। यह आदत न सिर्फ आपके शरीर को भरपुर न्युरिएंट्स लेने मे मददगार होगी बल्कि प्रेग्नेंट होने के बाद भी शरीर की जरुरतो को पूरा करने मे सहायक होगी। फल व सब्जियो मे काफी अधिक मात्रा में न्युट्रिएंट्स और एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं, जिससे शरीर में इंफ्लेमेशन कम होता है।

अगर आपका वजन सामान्य से अधिक है तो वजन कम करके आप प्रेग्नेंसी की सम्भावना बढा सकती हैं। लेकिन याद रहे, हफ्ते में एक पाउंड से अधिक वजन न घटे।

इन चीजो से बना ले दूरी

हाई मर्करी फिश: जो लोग मछली खाते हैं उन्हे ज्यादा मर्करी वाली मछली (लूना, हैलिबट स्वार्डफिश)।

-सोडा और फ्रूट जूस: इन चीजो से परहेज फायदेमंद रहता है क्योंकि इनमे शुगर अधिक मात्रा मे होता है, जो कि प्रजनन क्षमता पर बुरा असर डालता है।

ट्रांस फैट से तौबा: ऐसा देखा गया है कि ट्रांस फैट के अधिक इस्तेमाल से इंफर्टिलिटी की समस्या बढती है। ऐसे मे कुछ भी खरीदने से पहले उसका लेबल अवश्य जांच लीजिए।

अल्कोहल से बचाव:अल्कोहल का इसेमाल पुरुश व महिला दोनो की प्रजनन क्षमता को कम कर सकता है।

वजन पर काबू: अगर पति-पत्नी मे से किसी का भी वजन सामन्य से अधिक है तो सबसे पहले हेल्दी डाइट लेना शुरु करे और अपना वजन घटाए। इसके लिए जंक फूड, रिफाइंड शुगर और मीठे पेय पदार्थो के इस्तेमाल से बचे।

ये खाइए

दिन भर में दो से तीन बार फल और सब्जिया

भरपूर प्रोटीन वाला आहार, जैसे कि दाल, अंडे, मीट आदि।

कम कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट। इसके लिए चावल, आलू, चुकंदर और चीनी आदि कम मात्रा मे इस्तेमाल करे ।

फोलिक एसिड के साथ अन्य सप्लिमेंट, जैसे कि विटामिन बी 12, ओमेगा 3 फैटी एसिड।

Share:

Leave a reply