‘चीनी कम’ बताएगी डायबीटीज़ की ए, बी, सी, डी

1567
0
Share:

cheeni kam
नई दिल्ली स्थित पब्लिशिंग हाउस ग्लिटरिंग इंक ने ऑक्सफोर्ड बुक स्टोर में आज दो पुस्तकों का विमोचन किया। उनमें से पहली पुस्तक डायबीटीज़ के स्वयं प्रबंधन पर एक हिंदी हैंड बुक ‘चीनी कम’ है, और दूसरी पुस्तक ‘द डि(ई)लेम्मा’ फिक़शन पर आधारित एक अंग्रेजी उपन्यास है। दोनों पुस्तकें दिल्ली के एक प्रमुख मधुमेह और हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. विनोद गुजराल ने लिखी है।
डॉ. गुजराल ने इस मौके पर कहा, साल 2030 तक, भारत में 7 करोड़ 94 लाख लोग डायबीटीज़ से पीड़ित होंगे। इनमे से काफी बड़ी संख्या मे लोगों को डायबीटीज़ के साथ ही जीवन बसर करना होगा। डायबीटीज़ से पीड़ित लोग हर साल केवल कुछ घंटों के लिए ही डॉक्टरों से संपर्क करते हैं। बाकी समय वे खुद ही अपने अपनी समस्या की निगरानी और प्रबंधन करते हैं।
अनुमान लगाया गया है कि 95% डायबीटीज़ का प्रबंधन लोग स्वयं ही करते हैं। हालांकि सही स्वयं प्रबंधन से, अपने जीवन स्तर में सुधार ला सकते हैं और कोम्प्लिकेशन होने के खतरे को कम कर सकते हैं।
‘चीनी कम’ डॉ. गुजराल द्वारा डायबीटीज़ के स्वयं प्रबंधन पर लिखित छठी पुस्तक है। पहले लिखी गयी कुछ पुस्तकें हैं – जीवन मधुमेह के संग, होप फॉर डायबेटिक्स इन 21 सेंचुरी, आर यू गुड एट हार्ट।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply