वाइन और कॉफी है आपके लिए हेल्दी

Share:

Gut Bacteria

आपका खान-पान और आपके द्वारा इस्तेमाल की जाने दवा आपकी गट बैक्टीरिया (Gut Bacteria) को प्रभावित करती हैं । या तो यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है अथवा नुकसान भी पहुंचा सकता है। हाल ही मे आए दो नए अध्ययनो मे यह पाया गया है कि फल, सब्जी, कॉफी, चाय, वाइन दही और छाछ जैसी चीजे हमारी आंतो में अलग-अलग प्रकार के बैक्टीरिया के पनपने में सहायक साबित होती हैं, जिससे हमें बीमरियो से मुकबला करने मे असानी होती है।

दोनो अध्ययनो मे से एक की लेखक डॉ. जिन्गुयान फू कहती हैं, “यह बात हम सभी जानते हैं कि गट बैकटीरिया की विविधता हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होती है ।”

फू के मुताबिक गौर करने वाली बात यह है कि, खाने-पीने की ऐसी चीज जिसमे सिम्पल कर्बोहाइड्रेट्स होता है वह गट बैक्टीरिया की विविधता को कम कर देता है । इनमे ज्यादा फैट वाला दूध, शुगर और मीठे पेय पदार्थ शामिल हैं ।

इतना ही नही, दवा भी आपके गट बैकटीरिया की बनावट को प्रभावित कर सकती है. एंटीबायटिक, डायबीटीज की दवा मेट्फोर्मिन और एन्टासिड आदि गट बैक्टीरिया की विविधता कम कर सकती हैं । धुम्रपान और हार्ट अटैक का भी कुछ ऐसा ही असर देखने को मिलता है ।  ईस्टर्न वर्जीनिया मेडिकल स्कूल मे गैस्ट्रोइंटेरोलोजी विभाग के प्रमुख डॉ. डेविड जॉनसन कह्ते हैं, हर व्यक्ति की आंतो में अनगिनत माइमाइक्रो ओर्गेनिज्म  होते हैं, जिन्हे डॉ. “गट माइक्रोबिअम” कहते हैं ।

वह कह्ते हैं माइक्रोबिअम मानवीय स्वास्थ्य मे बेहद महत्वपुर्ण भूमिका निभाते हैं, लेकिन इस तथ्य की गहराई को समझने की जरुरत है ।

जॉनसन कहते हैं, ये बैक्टीरिया हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम मे सबसे अहम भुमिका निभाते हैं । काफी हद तक ये हमें स्वस्थ्य रखने और रोगो से मुकाबला करने के काबिल बनाते हैं ।

गट माइक्रोबिअम पर व्यक्ति की जीवनशैली का क्या असर होता है, यह पता लगाने के लिए फू और उनके सहकर्मियो ने उत्तरी नीदरलैंड मे रहने वाले 1,100 से अधिक व्यक्तियो के शौच का सैम्पल लिया ।

इन सैम्पल्स का इस्तेमाल बैक्टीरिया के डीएनए और गट मे पाए जाने वाले अन्य जीवित आर्गेनिज्म को एनालाइज करने के लिए किया गया । शौच के अलावा इन लोगो के खान-पान, दवा के इस्तेमाल और हेल्थ के बारे मे भी जानकारी ली गई ।

दूसरे अध्ययन मे, रिसर्चर्स ने बेल्जियम मे 5000 लोगो के स्टूल सैम्पल को एनलाइज किया ।

 

Share:

Leave a reply