अपनी स्किन को कर लें समर रेडी

1097
0
Share:

summer ready skinसर्दियों में जहां रूखी हवाओं के चलते दिक्कत रहती है वहीं गर्मियों की शुरूआत के साथ हवा में नमी बढ़ जाती है। यह स्थिति निश्चित रूप से त्वचा (Skin) को और खराब हालत में पहुंचने से रोकती है लेकिन ठंड के कठोर मौसम से चेहरे पर आई डलनेस (Dullness) के निशान जल्दी पीछा नहीं छोड़ते हैं। गर्मियों (Summer) की शुरूआत के साथ त्वचा को पूरी तरह से राहत की सांस मिले इसके लिए सबसे जरूरी होता है धूमिल त्वचा (Dull Skin) की परत को चेहरे से हटाना। और आजकल कई ऐसे एडवांस प्रसीजर (Cosmetic procedure) उपलब्ध हो चुके हैं जिनसे यह मुश्किल काम मिनटों मे संभव हो जाता है। आइये जानते हैं इनके बारे मे:

स्किनबूस्टर्सः चमकदार त्वचा (Glowing skin) वापस पाने के लिए डर्मल फिलर सबसे बेहतरीन विकल्प साबित होते हैं। त्वचा को लचीला और चमकदार बनाए रखने में रेस्टिलेन विटाल का कोई जवाब नहीं। आधुनिक जमाने का यह डर्मल फिलर कुछ ही मिनटों में बेहद आसानी से त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है और सबसे अच्छी बात ये होती है कि इसका जादुई असर सिर्फ कुछ ही दिनों तक नहीं रहता। इसके हाइडृोफिलिक ह्यालुरॉनिक एसिड से, जो कि त्वचा में पानी सोखने और इसे रोककर रखने की क्षमता बढ़ाता है, का असर अगले एक साल तक रहता है। रेस्टिलेन विटाल को जब माइक्रोइंजेक्शन के जरिए त्वचा की उपरी लेयर में लगाया जाता है तब यह त्वचा को भीतर से नमी और पोषण देता है।

केमिकल पील्सः यह एक एक्सफोलिएटिंग प्रक्रिया है जो त्वचा की बेजान परत को हटाने का काम करता है। दो-तीन सिटिंग के बाद आपकी त्वचा की हल्की परत दिखने लग जाती है। यह प्रक्रिया बेहद आसान होती है और इसके लिए आपको सिर्फ 15 से 20 मिनटों के लिए त्वचा रोग विशेषज्ञ के पास जाना पड़ता है। हालांकि आपको इसकी कितनी सिटिंग की जरूरत है यह बात त्वचा पर हुई टैनिंग पर निर्भर करती है। इस प्रक्रिया में त्वचा की उपरी परत को एक्फोलिएट करने के लिए एक केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है। कॉम्प्लेक्शन यानी त्वचा की रंगत ठीक करने के लिए आमतौर पर ग्लायकोलिक पील, विट सी पील और लैक्टिक पील का इस्तेमाल किया जाता है। प्रॉसीजर खत्म होने के बाद त्वचा पर टैनिंग का कोई भी निशान नहीं छूटता और आपका चेहरा तरोताजा और चमकदार हो जाता है।

ऑक्सिजन फेशियलः इस प्रक्रिया में मेडिकल ग्रेड ऑक्सिजन का इस्तेमाल होता है। इसके तहत तेज दबाव के साथ कंप्रेस्ड ऑक्सिजन को पूरे चेहरे पर फैलाया जाता है। लेकिन इससे पहले ऑक्सिजन को विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों, विटामिंस और हाइड्रेटर्स से भरपूर बनाया जाता है जो कि त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। इसके बाद हाई प्रेशर जेट से चेहरे पर ऑक्सिजन दिया जाता है। इससे ऑक्सिजन और पोषण का यह संयोजन बाहरी त्वचा के निचले हिस्से तक पहुंचता है। यह मिक्सचर त्वचा की कोशिकाओं की नवीनीकरण प्रक्रिया को तेज करता है और कोलेजन का उत्पादन बढ़ाता है जो कि त्वचा की कोशिकाओं को दुरूस्त रखने और इसके विकास में मददगार होता है।

मेडी फेशियलः मेडी फेशियल प्रॉसीजर में त्वचा को नमी देने के लिए केमिकल पील्स और लेजर दोनों का इस्तेमाल किया जाता है जिससे त्वचा निखरी और जवां बन जाती है। आजकल कई तरह के मेडीफेशियल उपलब्ध हो चुके हैं जो त्वचा की जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल किए जाते हैं ताकि आपको मुंहासों, अशुद्धियों, रूखेपन और दाग-धब्बों से निजात मिल सके। ये फेशियन कोलेजर बनने में मदद करते हैं जिसके परिणामस्वरूप नई कोशिकाओं का विकास होता है और चेहरा चमकदार बनता है। इस फेशियल में एक घंटे का समय लगता है और इससे मिलने वाली चमक लाजवाब होती है।

Share:
0
Reader Rating: (2 Rates)6.5

Leave a reply