डायबीटीज़ और सेक्स जीवन

Share:

diabetes and erectile dysfunction
मधुमेह (डायबिटीज) के रोगियों में सेक्स या जननेन्द्रिय सम्बन्धी समस्याओं की संभावना अधिक होती है। यह आश्चर्य का विषय है कि भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मधुमेह के रोगियों में सेक्स सम्बन्धी समस्याओं पर न तो मरीजों ने और न ही चिकित्सकों ने ही विशेष ध्यान देने की जरूरत महसूस की है। मधुमेह के रोगियों में पुरूषों की समस्याएँ अलग होती है और महिलाओं की अलग।

1. लिंग में पर्याप्त तनाव का आना (Erectile Dysfunction) सामान्य व्यक्तियों की तुलना में मधुमेह के रोगियों में यह समस्या से 15 साल पहले आने की संभावना होती है। सामान्य व्यक्तियों में यह समस्या 15 फीसदी की होती है, जबकि मधुमेह के रोगियों में यह समस्या 45 से 55 प्रतिशत होती है।

2. लिंग में पर्याप्त तनाव न आने के मुख्यतः दो कारक होते हैं-एक स्नायु सम्बन्धी (Nerves Neuropathy), दूसरा रक्त नलिका सम्बन्धित।

3. मधुमेह के रोगियों में आम व्यक्ति की तुलना में उच्च रक्तचाप की संभावना 30 फीसदी अधिक होती है। लिंग में पर्याप्त कड़ापन न आने की वजह उच्च रक्तचाप (High BP) भी हो सकती है।

4. कुछ दवाओं की वजह से भी लिंग में तनाव न आना (Erectile Dysfunction) हो सकती है।

5. महिला मधुमेह रोगियों की योनि में सेक्स के दौरान चिकने पदार्थ का स्राव न होने के समस्या हो सकती है, जिससे सेक्स (Inter Course) के दौरान दर्द हो सकता है।

सेक्स सम्बन्धी सावधानियां:
1. मधुमेह के रोगी अपने जननांगों की पर्याप्त सफाई रखें।
2. शारीरिक संबंध बनाने से पहले खासकर महिलायें मूत्र त्याग जरूर कर लें।
3. सेक्स के दौरान एक दूसरे का भरपूर सहयोग करें और प्रोत्साहन दें।
4. ऐसी औषधियां न लें, जो इस पर प्रभाव डाल सकती हैं।
5. रक्तचाप को नियंत्रण में रखें।
6. शराब एवं तम्बाकू का सेवन न करें।
7. अगर महिला मधुमेह रोगी को सेक्स के दौरान योनि में सूखापन की समस्या आ रही हो तो चिकित्सक से परामर्श कर विशेष क्रीम का प्रयोग कर सकती हैं।
8. विशेष परिस्थितियों में लिंग का कलर डाप्लर अल्ट्रासाउण्ड करायें।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply