डाइट कंट्रोल के टॉप 8 टिप्स

Share:

अगर आप भी डाइट कंट्रोल पर हैं या जाने की सोच रहे हैं तो कुछ टेक्निकल बातों के बारे मे जानना आपकी हेल्थ के लिए बेहद जरूरी है। हम यहाँ आपको दे रहे हैं डाइट कंट्रोल के टॉप 8 टिप्स। तो आगे पढ़ें और समझें डाइट की अपनी जरूरतें:

-डाइट पर जाने के बजाए हेल्दी खाने की आदत डालें, जिसे आप लंबे समय तक जारी रख सकते हैं। अगर आप धीरे-धीरे वजन घटाएंगे तो यह प्रक्रिया निरंतर चलती रहेगी।

-ज्यादा फाइबर वाली चीजें, जैसे कि ब्राउन ब्रेड, दालें और अनाज खाएं। फाइबर आपका डाइजेस्टिव सिस्टम सही रखने मे मदद करता है। रहेगा। यह आंत का कैंसर होने का खतरा भी कम करता है। इसके लिए हमे दिन भर मे औसतन 13-18 ग्राम फाइबर मे 5 ग्राम अधिक फाइबर लेने की जरूरत होती है, जो कि एक एक्स्ट्रा व्होल व्हीट ब्रेड से पूरा हो सकता है।

-रोज पाँच बार फल व सब्जियाँ खाने का टारगेट रखें, इससे आपके शरीर का एनर्जी लेवल बढ़ेगा और आप सेहतमंद रहेंगे। एक सर्विंग एक गिलास जूस हो सकता है।

-खाने मे सैचुरेटेड फैट अथवा एनिमल फैट की मात्रा कम करें। पूरे दिन की कुल कैलोरी इनटेक का सिर्फ 35 प्रतिशत हिस्सा ही फैट से होना चाहिए। इसमे भी सैचुरेटेड फैट की मात्रा कुल कैलोरी का 10 परसेंट हिस्से से अधिक नहीं होना चाहिए। मगर अधिकतर लोग इस लिमिट से काफी ज्यादा फैट लेते हैं।

-अपने खाने मे मछली की मात्रा बढ़ाएँ। मछली के तेल मे ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है जो दिल की बीमारियों से बचाव मे कारगर होता है और शरीर मे अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ता है। हफ्ते मे दो से तीन बार मछली खाना चाहिए।

-नमक कम खाएं। रोजाना के खाने मे सिर्फ 5 से 6 ग्राम नमक ही खाना चाहिए। जबकि बाजार मे मिलने वाली किसी भी औसत फ्राई के एक प्लेट मे 10 ग्राम नमक होता है। कई ब्रांड के सीरियल मे भी काफी ज्यादा नमक होता है। ऐसे मे इसे खरीदने से पहले पैकेट पर साल्ट या सोडियम की मात्रा जरूर जांच लें।

-रोज कम से 1.5 से 2 लीटर लिक्विड लें। यह जरूरी नहीं की यह सादा पानी ही हो। इससे आपकी किडनी स्वस्थ रहेगी और आपको यूरीन इन्फेक्शन होने का खतरा कम होगा।
-बेवजह विटामिन या मिनरल सप्लिमेंट न खाएं। ये अच्छी डाइट का विकल्प नहीं हैं। अगर आप बैलेंस्ड डाइट लेते हैं तो आपको इसकी कोई जरूरत नहीं है।

Share:

Leave a reply