शुगर फ्री नहीं, देखें कैलोरी फ्री का टैग

Share:

diwali beware of food adulteration
इन दिनों नकली मिठाइयों की बिक्री जोरों पर है। मिठाइयों में केमिकल यूज हो रहे हैं। ऐसे में, जहां तक हो सके घर की बनी फ्रेश चीजों, ताजे फल और ताजे फ्रूट जूस का इस्तेमाल करें। आजकल मार्केट में लाल , पीली , काली , नीली हर रंग की मिठाइयां उपलब्ध हैं , जिनमें केमिकल वाले रंगों का इस्तेमाल हो रहा है। लोगों को गुमराह करने के लिए आर्टिफिशियल स्वीटनर के नाम पर काफी मिठाइयां बिकती हैं। लोग इन्हें यह सोचकर धड़ल्ले से खाते हैं कि यह नुकसान नहीं करेगी, जबकि सच यह है कि ये चीजें शुगर फ्री होती हैं, न कि कैलरी फ्री। ऐसे में कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर तेजी से बढ़ जाता है।

मीठा ही नहीं, नमकीन भी पद सकता है सेहत पर भारी
डायबीटीज, हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट की समस्या वाले लोग अक्सर सेहत का हवाला देकर मीठे के बजाय नमकीन खाते हैं, जबकि तली और ज्यादा नमक वाली चीजें भी परेशानी बढ़ाती हैं। इन दिनों रोस्टेड काजू भी लोग जमकर खाते हैं, जबकि एक साथ डिमांड ज्यादा होने पर अक्सर पुराने स्टॉक को फिर से फ्राई करके, उसमें और नमक मिलाकर बेचा जाता है, जो कि डबल फ्राई होने के कारण काफी खतरनाक हो जाता है।

मिलावटी मिठाइयाँ दे सकती हैं दर्द
पेटदर्द , सिरदर्द , नींद न आना , मितली , शरीर में भारीपन , डायबीटीज , ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का कंट्रोल से बाहर होना आदि।

अपनाएं ये टिप्स
– देर रात में हैवी खाना न खाएं , इससे भारीपन महसूस हो सकता है और रात में हार्ट की प्रॉब्लम हो सकती है ,इसलिए हल्का खाना खाएं।

– पार्टी के दौरान ड्रिंक करने से रात में ब्लड शुगर लेवल खतरनाक रूप से कम हो सकता है।

– पैक्ड फ्रूट जूस में सोडियम काफी ज्यादा होता है , इससे ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

– रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण डायबीटीज के मरीजों को पटाखों के प्रदूषण से चेस्ट इन्फेक्शन का खतरा रहता है।

– हर चीज को लिमिट में इस्तेमाल करें , ज्यादा मात्रा में ड्राई फ्रूट भी परेशानी खड़ी कर सकता है।

– दोस्तों , रिश्तेदारों की रिक्वेस्ट को मानने के चक्कर में न भूलें अपनी सेहत को।

ताकि बनी रहे दिवाली की मिठास
– मिठाई की बजाय घर में बनी खीर , सेवइयां और कस्टर्ड आदि का इस्तेमाल करें। अगर डायबिटीक हैं तो इनमें मीठा न डालें।

– फ्रेश फ्रूट जूस का इस्तेमाल करें , पैक्ड जूस न लें।

– सेब , नासपाती , पपीता , अमरूद और दूसरे रसदार ताजे फल खाएं और खिलाएं।

– खोये आदि के बजाय पेठे जैसी सूखी मिठाइयां कम मात्रा में कर सकते हैं इस्तेमाल।

– रोस्टेड काजू आदि की बजाय बादाम और अखरोट जैसे ड्राई फ्रूट करें इस्तेमाल।

– खाने में ज्यादा तली भुनी चीजों के बजाय लाइट चीजें बनाएं।

– घिया या कच्चे पपीते से घर में बना सकते हैं मिठाई।

Dr. A.K. Jhingan
Chairman, Delhi Diabetes Research Centre

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply