दिमाग को फिट रखने के लिए करें मेडिटेशन

Share:

do meditation to keep your brain fit
एक अच्छी खबर यह है कि 1970 से पूरी दुनिया में जीवन प्रत्याशा (life expectancy) में जबरदस्त वृद्धि हुई है और लोग दस साल ज्यादा जिंदा रह रहे हैं। लेकिन इसके साथ बुरी खबर यह है कि अब 25-30 की उम्र में लोगों के मस्तिष्क (brain) की क्षमता में गिरावट शुरू हो जाती है। उसका वाल्यूम और वजन कम होने लगता है। इसके फलस्वरूप मस्तिष्क (brain) अपनी कुछ कार्य क्षमता (capability) खोने लगता है। लोग लंबा जीवन प्राप्त कर सकते हैं लेकिन जैसे-जैसे साल बीतते जाते हैं, उनमें स्नायु विकारों (nervous problems) का खतरा बढ़ता जाता है। सौभाग्यवश मेडिटेशन (meditation) से इन खतरों को कम किया जा सकता है।

लॉस एंजलिस स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया(यू सीएलए) के रिसर्चरों द्वारा किए गए एक नए अध्ययन के मुताबिक जो लोग ध्यान करते हैं उनके मस्तिष्क में उम्र से जुड़ा क्षय कम होता है।

रिसर्चरों ने पता लगाया कि ध्यान (meditation) से मस्तिष्क के ग्रे मैटर को सुरक्षित रखने में मदद मिलती है। ध्यान रहे कि स्नायु कोशिकाएं ग्रे मैटर में होती हैं। वैज्ञानिकों ने खास तौर से आयु और ग्रे मैटर के बीच संबंध की पड़ताल की।

उन्होंने वर्षों से ध्यान (meditation) करने वाले 50 लोगों की तुलना ध्यान नहीं करने वाले 50 लोगों से की। उन्होंने दोनों ग्रुपों के लोगों में ग्रे मैटर की गिरावट देखी। लेकिन यह गिरावट उन लोगों में ज्यादा देखी गई जिन्होंने जरा भी ध्यान (meditation) नहीं किया। यूसीएलएके ब्रेन मैपिंग सेंटर के वैज्ञानिक और ताजा अध्ययन के सह -लेखक फ्लोरियन कर्ट का कहना है कि रिसर्चरों को दोनों ग्रुपों के बीच देखे गए भारी अंतर पर बहुत हैरानी हुई है। नया अध्ययन फ्रंटियर्स इन साइकोलॉजी के ऑनलाइन एडिशन में प्रकाशित हुआ है।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply