इबोला: यूएस आर्मी ने बनाया टेस्ट किट

1759
0
Share:

ebola-mali-three-victims

-यूएस मिलिट्री ने डिवेलप कर लिया है इसके लिए टेस्ट किट, इमरजेंसी को देखते हुए यूएस एफडीए ने बिना अप्रूवल के ही दे दी है इसके इस्तेमाल की इजाज़त
-वैक्सीन बनाने के लिए भी चल रहा है प्रयास, बंदरों पर किया गया टेस्ट रहा है संतोषजनक, मगर अगले साल तक ही हो सकता है यह तैयार

खतरनाक रूप ले रहे इबोला वायरस को लेकर पूरी दुनिया मे दर का आलम फ़ेल गया है। हर देश इससे निबटने की बेहतर से बेहतर तैयारी कर रहा है। अमेरिकन आर्मी ने इसके लिए टेस्ट-ट्यूब जांच किट भी तैयार कर लिया है। हालांकि अभी इस किट को यूएस एफडीए से अप्रूवल नहीं मिला है, मगर इमरजेंसी मे एफडीए ने इसके इस्तेमाल की अनुमति दे डी है।
वायरस से बचाव वाले वैक्सीन पर भी अमेरिकी वैज्ञानिकों ने काम शुरू कर दिया है। अधिकारियों का दावा है कि बंदरों पर किए गए टेस्ट मे वैक्सीन के रिजल्ट संतोषजनक पाए गए हैं, मगर इसे इंसानी इस्तेमाल के लायक बनाने और मार्केट मे लाने मे अभी समय लगेगा। ऐसे मे इबोला वायरस के वैक्सीन के लिए हमे अगले साल यानी 2015 तक इंतजार करना होगा।
यूएस एफडीए के प्रवक्ता स्टेफनी याओ ने अमेरिकी मीडिया को एक बयान जारी कर बताया है कि आर्मी द्वारा तैयार किया गया टेस्ट किट उन मरीजों की जांच के लिए इस्तेमाल किया जाएगा जिनमे इबोला वायरस के इन्फेक्शन के लक्षण दिखाई देंगे। दो अमेरिकी- डॉ. केंट ब्रैंटली और नैन्सी व्रीटबल लाइबेरिया मे वॉलंटियर करते हुए इबोला वायरस के इन्फेक्शन की चपेट मे आ गए हैं। इस बात से अमेरिका मे भी लोग दहशत मे हैं। बुधवार को न्यू यॉर्क के माउंट शिनोय हॉस्पिटल ने यह साफ किया कि यहाँ भर्ती हुए दो संदिग्ध मरीजों का टेस्ट नेगेटिव है। ऐसे मे घबराने की कोई जरूरत नहीं।
अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इन्फेक्शियस डीजीजेज़ के वैज्ञानिक डॉ. एंथनी ने बताया कि इबोला वैक्सीन जल्द से जल्द तैयार करने की कोशिश की जा रही है। वैक्सीन सिरर्च सेंटर द्वारा डिजाइन वैक्सीन को बंदरों पर टेस्ट किया गया है। सितंबर के अंत तक इसका फेज-1 ट्रायल शुरू होने की उम्मीद है। इसके तहत इसे इंसानों पर टेस्ट किया जाएगा। वैक्सीन को कुछ इस तरह डिजाइन किया गया है कि यह शरीर मे इबोला वायरस के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित करे।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply