मेमोरी लॉस से बचना है तो करें कसरत

Share:

dementia-prevention-is-the-only-option
यह बात सब जानते हैं कि शरीर और दिमाग को बढ़ती उम्र के असर से बचाने मे एक्सरसाइज (exercise) की भूमिका अहम है। अब रिसरचर्स ने एक कदम आगे बढ़ते हुए इसके फ़ायदों का पता लगाया है। इसके मुताबिक एक्सरसाइज (exercise) करना न सिर्फ मेमोरी कमजोर होने से पहले फायदेमंद होता है बल्कि यह उन लोगों के लिए भी अच्छा होता है जिन्हें डिमेन्शिया (dementia) हो चुका है। यह न सिर्फ अल्ज़ाइमर्स (alzheimer’s) डीजीज मे लाभकारी होता है बल्कि वस्कुलर डिमेन्शिया भी फायदेमंद होता है, जो की ब्रेन मे होने वाले साइलेंट स्ट्रोक का परिणाम होता है।

वाशिंगटन डीसी मे हुई अल्ज़ाइमर्स असोसिएशन की मीटिंग मे हाल ही इस संबंध मे 3 स्टडीज़ पेश की गई थीं। एक्सरसाइज से प्रोटीन के टॉक्सिन का लेवल कम होता है और ब्रेन मे ब्लड फ़्लो बढ़ता है। 4 महीने की इंटेन्स एक्सरसाइज के बाद अल्ज़ाइमर्स के मरीजों मे एंग्जाइटी, इरिटेबिलिटी और डिप्रेशन के लक्षणों मे सुधार देखा गया, हालांकि इससे उनकी मेमोरी मे कोई सुधार नहीं हुआ।

लेकिन वस्कुलर डिमेन्शिया के मरीजों मे 6 महीने की एक्सरसाइज के बाद उनकी मेमोरी और सोचने-समझने की क्षमता मे सुधार हुआ।
यह जानना बेहद जरूरी है कि अब तक ऐसी कोई दावा उपलब्ध नहीं हुई है जो डिमेन्शिया और अल्ज़ाइमर्स से हुए नुकसान को ठीक कर सके। ऐसे मे रिसरचर्स इस नई स्टडी को उम्मीद की एक किरण के तौर पर देख रहे हैं।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply