स्ट्रेस को ऐसे मारें किक!

Share:

 

stress busterइस भागदौड़ भरी लाइफ मे स्ट्रेस फ्री रह पाना एक कभी न पूरा होने वाले सपने जैसा है। लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आप स्ट्रेस को खुद पर हावी होने दें। क्योंकि ऐसा हो गया तो आपकी पूरी दिनचर्या डिस्टर्ब हो जाएगी। इसलिए जिंदगी की गाड़ी को सही पटरी पर बनाए रखने के लिए स्ट्रेस को जितनी जल्दी हो सके किक मार दें। इसमे ये टिप्स आपके काम आ सकते हैं:

गहरी सांस लें
अरोमा थेरेपी सिर्फ स्पा मे जाकर ही नहीं ली जा सकती। इसके लिए कोई भी जगह और कोई भी समय उपयुक्त हो सकता है। तो आगे से जब भी स्ट्रेस मे हों, एक रोज़मेरी या लैवेंडर कि खुशबू वाला रूम स्प्रे डालें, कैन्डल जलाएँ] खिड़कियों के पर्दे फैलाएँ और टिमटिमाती रोशनी मे 5 मिनट के लिए शांति से लेटकर गहरी सांस लें। इससे आप पालक झपकते ही खुद को रिलैक्स महसूस करेंगे। खुशबू आपके शरीर मे कार्टिसोल हार्मोन (स्ट्रेस के लिए जिम्मेदार) का लेवल कम करेगा। गहरी सांस आपके ब्लड मे पर्याप्त मात्रा मे ऑक्सीज़न पहुंचाएगी, जिससे पूरे शरीर को शांति मिलेगी।

खुलकर हंसें
घर या काम की जिम्मेदारियों ने परेशान कर दिया है? तो टेंशन किस बात कि है! किसी फैमिली मेम्बर या फ्रेंड को इनवाइट करें, अपने डीवीडी प्लेयर मे एक कॉमेडी शो लगाएँ और चाय की चुस्की के साथ जमकर ठहाके लगाएँ। जितनी बार आप हँसेंगे, आपका ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा, जिससे आपके शरीर के सभी अंगों मे ऑक्सीज़न का लेवल बढ़ेगा और स्ट्रेस भाप कि तरह उड़ जाएगा। इतना ही नहीं, हंसने से स्ट्रेस हार्मोन का लेवल भी कम होगा।

पेट से प्यार
अगर आपको पेट्स का शौक है तो यह +पॉइंट है। क्योंकि पेट्स न सिर्फ आपको अनकंडीशनल प्यार देते हैं, बल्कि ये आपकी हेल्थ के लिए भी अच्छे होते हैं। जब आप अपने पेट्स को दुलार रहे होते हैं तब आपके शरीर मे सिरोटोनिन, प्रोलैक्टीन और ऑक्सीटोसिन जैसे फील गुड हार्मोन्स रिलीज होते हैं। इसके साथ ही स्ट्रेस हार्मोन से शरीर को होने वाला नुकसान भी कम होता है। ऐसे मे ब्लड प्रेशर और एंजाइटी कम होती है और इम्यूनिटी बढ़ती है।

सफाई भी है कारगर
आस-पास बहुत सारी चीजों की भीड़ आपके स्ट्रेस लेवल को बढ़ा सकती है। इसके चलते जब भी आपको अपनी चेकबुक, बच्चे का होमवर्क या कोई बिल जैसी जरूरी चीज मौके पर नहीं मिलती है तो एंजाइटी हो जाती है। तो अगली बार जब भी किसी और काम मे मन न लगे, अपनी अलमारियों और ड्रॉअर की सफाई कर लें। इसमे आपका ध्यान एक मिनट मे लग जाएगा। आप सारी टेंशन भूल जाएंगे। एक्सरसाइज भी हो जाएगी और चीजें व्यस्थित भी हो जाएंगी।

किचन गार्डन मे बिताएँ वक्त
आपका किचन गार्डन भी आसानी से स्ट्रेस कम कर सकता है। तो गार्डन ग्लव्ज़ पहनिए, गार्डनिंग का कोई टूल उठाइए और तैयार हो जाइए स्ट्रेस को उड़नछू करने के लिए। पौधों की ताजी खुशबू मन को आराम देगी, फूल पत्तियों का गहरा सूदिंग रंग आँखों को सुकून देगा। वैज्ञानिकों को यह भी कहना है कि घास काटने के बाद इसमे से जो नेचुरल केमिकल निकलता है वह ब्रेन मे स्ट्रेस हार्मोन को कम कर सकता है।

थोड़ा विटामिन सी हो जाए
आपकी ब्रेकफ़ास्ट की रेग्युलर गिलास भी स्ट्रेस के समय आपको तारोताजा करने मे हेल्प कर सकती है। एक्सपर्ट मानते हैं कि विटामिन सी स्ट्रेस को आसानी से मैनेज कर सकता है, क्योंकि यह कार्टिसोल हार्मोन कम करता है। तो विटामिन सी से भरपूर कोई भी जूस, जैसे कि ऑरेंज या ग्रेप्स जूस अपने लिए तैयार रखें। इससे आपका इम्यून सिस्टम भी स्ट्रॉंग होगा।

गुनगुनाएँ
आपको जब भी ऐसा महसूस हो कि कोई बात आपके दिमाग को परेशान कर रही है और चाहकर भी आप उसके बारे मे सोचने से रुक नहीं पा रही हैं, तो रेडियो ऑन कीजिए और उसके साथ गुनगुनाना चालू कर दीजिए। पहले कुछ मिनट शायद आपको ऐसा करना अच्छा न लगे लेकिन इसे बंद न करें। ठीक मेडिटेशन की तरह आपका ध्यान धीरे-धीरे इसमे राम जाएगा और आप टेंशन भूल जाएंगे। गाना गाना आपके ब्रीदिंग, पोश्चर, हार्ट और इम्यूनिटी के लिए भी अच्छा होता है।

वॉक करें
एक्सरसाइज स्ट्रेस कम करने का बहुत अच्छा तरीका है। इससे आपके शरीर मे एंडोर्फ़िंस बनने मे हेल्प मिलती है। एंडोर्फ़िंस आपके ब्रेन के ऐसे न्यूरोट्रांसमीटर हैं जो आपको खुश महसूस कराते हैं। ये आपका ध्यान केन्द्रित करने मे मदद करते हैं। एक्सरसाइज से आपका मूड तुरंत अच्छा हो जाता है। अगर आप रोज कम से 30 मिनट तेज कदमों से वॉक करते हैं तो आप फिजिकली भी फिट रहते हैं।

चुइंग गम चबाएँ
चुइंग गम आपकी साँसों को ताजगी देने के अलावा भी काफी कुछ कर सकता है। रिसर्च के मुताबिक, इससे आपका स्ट्रेस लेवल और एंजाइटी कम होती है। आपकी मेंटल परफ़ोर्मेंस बढ़ती है। डिप्रेशन की समस्या नहीं होती और स्ट्रेस के चलते बढ़ने वाली प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल की समस्या भी कंट्रोल मे रहती है।

रोमांस करें
स्ट्रेस के समय रोमांस! सुनने मे अजीब लग रहा होगा। लेकिन यह बहुत कारगर है। तो आगे से जब भी स्ट्रेस मे हों रोमांस के बारे मे भी जरूर सोचें। इससे आपका ब्लड प्रेशर कम होगा और अपने पार्टनर के साथ इंटिमेसी का एहसास आपका आत्मविश्वास बढ़ाएगा। इससे आपको अच्छी नींद भी आएगी जिससे बॉडी का पूरा सिस्टम रिलैक्स हो जाएगा।

Share:

Leave a reply