काला अजार को जड़ से उखाड़ने की तैयारी

1918
0
Share:

Health Ministers commit to eliminating kala-azar
बांग्लादेश, भूटान, भारत, नेपाल और थाईलैंड के स्वास्थ्य मंत्रियों ने अपने देशों से काला अजार (Visceral Leishmaniasis) के उन्मूलन में सहयोग के लिए एक आपसी सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए। दक्षिण-पूर्व एशियाई क्षेत्र में 14.7 करोड़ से ज्यादा लोगों के इस प्राणघातक बीमारी के संपर्क में आने का खतरा है, जिनमें से ज्यादातर लोग बांग्लादेश, भारत और नेपाल के हैं। हाल ही में भूटान और थाईलैंड में भी इस बीमारी के कुछ मामले सामने आए हैं।

तीन प्रमुख प्रभावित देशों, जिनकी अंतर्राष्ट्रीय सीमा एक दूसरे से सटी हैं, वहीं इस बीमारी के 50% से ज्यादा मामले सामने आए हैं। ऐसे में राष्ट्रीय प्रयास के साथ ही इन देशों को आपसी सहयोग के जरिये काला अजार पर नियंत्रण और उसके उन्मूलन की दिशा में काम करने की जरूरत है। पांचों देशों के बीच जिन क्षेत्रों में सहयोग के लिए करार किया गया है उनमें संसाधनों के आपसी इस्तेमाल, सूचनाओं का आदान-प्रदान, अंतर-क्षेत्रीय सहयोग, शोध, क्षमता निर्माण और तकनीकी मदद शामिल है।

अगर काला अजार का इलाज नहीं कराया गया तो इससे रोगी काफी कमजोर हो जाता है और कई बार यह जानलेवा भी हो जाता है। यह सैंडफ्लाई के जरिये फैलता है जो नमी वाली मिट्टी, गुफाओं, मिट्टी की दीवारों दरारों और चूहों के बिलों में पनपती हैं। ग्रामीण इलाकों में रहने वाले अति निर्धन समुदाय को इस बीमारी के होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। यह कुपोषण और अशिक्षा से भी जुड़ा है। गरीब इस बीमारी का इलाज नहीं करा पाते। बीमारी के चलते काम भी नही कर पाते, फिर और गरीब हो जाते हैं।

काला अजार के उन्मूलन का मतलब है कि इसके मामलों को उस स्तर तक कम किया जाए जिससे यह सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए कोई समस्या न रहे। इसके तहत जिला या उप-जिला स्तर पर सालाना 10000 की आबादी पर कालाजार के एक से भी कम मामले का लक्ष्य रखा गया है।

दक्षिण-पूर्व एशिया में डब्ल्यूएचओ की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा, ‘‘ कालाअजार का उन्मूलन सम्भव है और डब्ल्यूएचओ इस बीमारी का खत्मा करने के लिए प्रतिबद्ध है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास अब बेहतर डायग्नोस्टिक टूल और प्रभावी दवाइयां हैं जिससे इसका इलाज किया जा सकता है। डब्ल्यूएचओ ने वर्ष 2016 के अंत तक रोग से पीड़ित देशों में निशुल्क दवाइयों की आपूर्ति सुनिष्चित करने के लिए करार किया है और इसे अगले 5 साल तक के लिए बढ़ाया जा सकता है।’’

उन्मूलन रणनीति के तहत बीमारी का शुरू में ही पता लगाने और उसका उपचार करने की पहल की गई है, खासकर वैसे इलाके में जहां इस रोग के फैलने का ज्यादा खतरा रहता है। इसके साथ ही इन क्षेत्रों में समुचित निगरानी और वातावरण में सुधार, सामाजिक गतिविधियों एवं शोध व नेटवर्किंग में एकीकृत प्रबंधन पर खास ध्यान दिया जाएगा। काला अजार के उन्मूलन से गरीबी कम करने और प्रभावित देशों में स्वास्थ्य सेवाओं और उसके विकास की कोशिश को भी मजबूती मिलेगी।

डब्ल्यूएचओ के दक्षिण-पूर्वी एशिया क्षेत्र में 11 सदस्य देश शामिल हैं: बांग्लादेश, भूटान, उ.कोरिया, भारत, इंडोनेशिया, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, श्रीलंका, थाइलैंड और तिमोर-लेस्टे।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply