वर्ल्ड नो टोबैको डे:ऐसे पाएँ स्मोकिंग फ्री स्किन

2152
0
Share:

how-to-get-back-your-beauty-after-queting-smokingअपनी सेहत पर पड़ रहे असर को देखकर आपने स्मोकिंग (Smoking) से पीछा छुड़ाने का फैसला कर लिया। लगातार कड़ी मेहनत से आपको कामयाबी भी मिल गई, लेकिन अब आपको स्किन (smoking effect on skin) पर पहले से पड़ चुके इसके असर को लेकर चिंता हो रही है! हो भी क्यों न…. हमारी स्किन (Skin) ही तो है जो दुनिया के सामने हमारी अंदरूनी सेहत (internal Health) का नमूना दिखाती है। और सालों की स्मोकिंग (Smoking) का इस पर गहरा असर होना भी लाज़िमी है। मगर आप घबराएँ नहीं, आप अपनी स्किन (Skin) को भी बेहद आसानी से स्मोकिंग के असर से मुक्त करा सकती हैं। आइए जानते हैं कैसे:

खूब पानी पिएंः धूम्रपान से रूखी हो चुकी आपकी त्वचा को बहुत सारा पानी चाहिए होता है। अगर आपको भी यह समस्या हो गई है तो खूब सारा पानी पीने की कोशिश करें। इससे त्वचा भीतर से मुलायम, नम और चमकदार बनेगी।

विटामिन से भरपूर आहारः विटामिन से मिलने वाले एंटी-ऑक्सिडेंट त्वचा की समस्याओं को ठीक करते हैं, ऐसे में इनकी एजिंग की प्रक्रिया भी थमती है। इसके लिए खूब सारे फल, सब्जियां और सलाद खाएं।

विटामिन इन्फ्युजन थेरेपीः निस्तेज हो चुकी त्वचा को विटामिंस पोषण देते हैं। उम्र, पर्यावरण और धूम्रपान से त्वचा को हुए नुकसान को ठीक करने के लिए इसकी परत में कुछ खास प्रकार के विटामिन और अन्य पोषक तत्व दिए जाते हैं। इसे त्वचा पुनर्जीवित हो उठती है और उसकी चमक वापस आती है।

ऑक्सिजन फेशियल कराएं: यह एक ऐसा प्रॉसीजर है जिसमें त्वचा में विशुद्ध ऑक्सिजन देकर इसकी जैविक पुनर्जीवन की क्षमता को बढ़ाया जाता है। माइक्रोनीडलिंग जेट्स का इस्तेमाल करके ऑक्सिजन को त्वचा की भीतरी सतह में लगाया जाता है जिससे बाहरी परत भी साफ और नम होती है।

ह्यालुरॉनिक एसिड फिलरः जुवेडर्म रिफाइन जैसे फिलर त्वचा की खोई नमी और तेज लौटाते हैं। इसके लिए त्वचा में वॉटर एब्जॉर्बिंग ह्यालुरॉनिक एसिड लगाया जाता है। इस प्रक्रिया से न सिर्फ त्वचा की बारीक लाइनें और झुर्रियां ठीक होती हैं बल्कि त्वचा को नमी व चमक देकर इसका खोया हुआ तेज वापस लौटाता है।

एंटी एजिंग प्रॉसीजरः बोटॉक्स जैसे कॉस्मेटिक प्रॉसीजर से आपके चेहरे से झुर्रियों को आसानी से हटाया जा सकता है। इससे आपकी त्वचा जवां और निखरी हुई नजर आएगी। आंखों के किनारों की लकीरों और माथे पर उभरने वाली रेखाओं को ठीक करने में बोटॉक्स बेहद असरदार होता है।

लगातार स्मोकिंग से स्किन कैसे होती है प्रभावित
– तंबाकू का धूम्रपान करने से कार्बन मोनोऑक्साइड शरीर में जाता है, जो कि आपकी त्वचा से महत्वपूर्ण पोषक तत्वों जैसे कि विटामिन सी और विटामिन ए छीन लेता है। साथ ही त्वचा से ऑक्सिजन को भी सोख लेता है, ऐसे में आपकी त्वचा रूखी और अस्वस्थ हो जाती है। जब गर्म धुआं मुंह से बाहर निकलता है तब पूरे चेहरे पर उड़ता है, ऐसे में त्वचा जलती है और धुंए के साथ त्वचा और होठों की नमी भी उड़ जाती है।

-त्वचा को लचीला, जीवंत और मुलायम बनाए रखने में एलास्टिन और कोलेजन, इन दो तत्वों की भूमिका सबसे अहम होती है। तंबाकू धूम्रपान करने से त्वचा के इन दोनों महत्वपूर्ण तत्वों पर भी असर पड़ता है। इससे त्वचा की एजिंग की प्रक्रिया तेज हो जाती है। धुएं की वजह से त्वचा के एलास्टिन फाइबर में बदलाव आता है और कोलेजन को नुकसान पहुंचता है। ऐसे में चेहरे पर झुर्रियां और बारीक रेखाएं उभरने लगती हैं।

-निकोटीन, जो कि एक ब्रेन स्टिमुलेटर है और धूम्रपान को आपके लिए आनंददायक बनाता है, वह आपकी खून की नलियों में रूकावट की वजह भी बनता है। इससे रक्त संचार प्रभावित होता है। एक तरफ तो इससे हार्ट अटैक और स्टृोक का खतरा बढ़ता है, तो दूसरी ओर इससे शरीर की सामान्य हीलिंग प्रक्रिया भी प्रभावित होती है। धूम्रपान करने वालों के घाव जल्दी नहीं भरते हैं। खून की नलियों में रूकावट के चलते चेहरे और शरीर की बाकी त्वचा की छोटी-छोटी नसों तक ऑक्सिजन से भरपूर रक्त का संचार सही ढंग से नहीं हो पाता है। ऐसे में त्वचा खुद के पुनर्जीवन की क्षमता खो देती है, जिसके चलते चेहरे पर उभरने वाला कोई भी दाग, झुर्रियां और घाव आदि भरने में वक्त लगता है।

-निकोटीन की लत वाले लोगों की नींद अक्सर आधी रात को खुल जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि निकोटीन हमारे दिमाग की तंत्रिकाओं पर असर डालकर हमारे नींद के पैटर्न को भी प्रभावित करता है। इस तरह नींद डिस्टर्ब होने की वजह से त्वचा का तनाव बढ़ता है; ऐसे में आंखों के नीचे काले घेरे हो सकते हैं, अथवा आंखों में सूजन आ सकती है और आपका चेहरा बीमार सा दिखने लगता है।

– वैज्ञानिकों का मानना हैकि हमारी त्वचा पर उम्र का असर दिखने की एक बड़ी वजह फ्री रैडिकल्स भी हैं। ये फ्री रैडिकल्स हमारे पूरे शरीर में घूमते हैं और हमारे अंगों, जोड़ों और त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं। खतरनाक तंबाकू का धुआं शरीर में फ्री रैडिकल्स का उत्पादन बढ़ाता है। इन फ्री रैडिकल्स की वजह से त्वचा पर उम्र बढ़ने के निशान और बालों में सफेदी भी जल्दी आती है।

– होठों का काला होना और दांतों पर दा-धब्बे होना धूम्रपान के दो अन्य ऐसे असर हैं जो आपकी खूबसूरती पर दाग लगाने का काम करते हैं। ऐसा माना जाता है कि तंबाकू का धुआं बालों के फोलिकल्स को भी नुकसान पहुंचाता है, जिससे बाल झड़ने लगते हैं और गंजापन हो सकता है।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply