हेल्दी रहना है तो छोड़ें नमक का मोह

Share:

Low-Sodium-Diet

एक एडल्ट व्यक्ति को एक दिन मे 1500 मिलीग्राम से अधिक सोडियम नहीं खाना चाहिए। मगर अमेरिकन हार्ट असोसिएशन के मुताबिक अधिकतर लोग 3,400 मिलीग्राम तक सोडियम का इस्तेमाल कर रहे हैं। खाने मे बहुत ज्यादा सोडियम होने से स्ट्रोक, हार्ट फेलियर, आस्टियोपोरोसिस, पेट के कैंसर और किडनी संबंधी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। ज्यादा मात्रा मे नमक खाना एक तरह की आदत है। कुछ लोग हर चीज मे नमक डालते हैं, यहाँ तक कि मीठे फलों मे भी।

इन चीजों मे होता है सबसे ज्यादा सोडियम
• अचारी खाना
• स्मोक्ड फूड
• सोया सॉस, कॉकटेल सॉस और केचअप आदि
• प्रिपेयर्ड सलाद ड्रेसिंग
• सोडियम सोल्युशन मिलाया हुआ मीट, पॉल्ट्री या सीफूड
• केंड बीन्स
• केंड टोमैटो
• प्रोसेस्ड चीज
• ऐसा मसाला मिक्स जिसमे नमक हो

डाइट मे सोडियम की मात्रा कम करने के लिए अपनाएं ये टिप्स:

लेबल और इंग्रीडिएंट पढ़ें
सोडियम कई नामों से लिखा हुआ हो सकता है, जिसमे नमक, सोडियम बेंजोएट, डिसोडियम या मोनोसोडियम ग्लूटामेट। लेबल पढ़ें और इस बात का ध्यान रखें कि आप कितना सोडियम ले रहे हैं, ताकि इसकी लिमिट एक दिन मे 1,500 मिलीग्राम से नीचे ही रहे।

एक स्क़्वीज से बन जाएगी बात
नींबू या संतरा नमक का बेहतरीन विकल्प है। इसे हल्का सा निचोड़कर आप अपने खाने मे मजेदार फ्लेवर ला सकते हैं।

मसालों के साथ करें खेल
अपने पसंदीदा ताजे हर्ब्स और मसालों के साथ थोड़ा एक्सपरिमेंट करें। अपनाएं ये आइडियाज़:
• तुलसी: मछली, गोश्त, लीन ग्राउंड मीट, सेंक कर बने फूड, सलाद, सूप और फिश कॉकटेल मे करें इसका इस्तेमाल।
• दालचीनी: फलों (खासतौर से सेब), ब्रेड, पाई क्रस्ट आदि मे इसे मिलाएँ।
• करी पत्ता पाउडर: लीन मीट, चिकन, मछली, टमाटर, टोमैटो सूप, मेयोनीज़ आदि मे इसकी सीजनिंग लाजवाब फ्लेवर दे सकती है।
• सोआ: मछली, सूप, टमाटर, पत्ता गोभी, गाजर, फूल गोभी, हरी बीन्स, खीरा, आलू, सलाद, मैक्रोनी, चिकन आदि मे इसे मिलाएँ।
• लहसुन(गार्लिक साल्ट नहीं): लीन मीट, मछली, सूप, सलाद, सब्जियाँ, टमाटर और आलू आदि मे इसका हल्का सा फिंच भी कमाल का स्वाद देता है।
• अदरक: चिकन, फल आदि मे डालें।
• सरसों/राई (सूखा): मीट, चिकन, मछली, सलाद, अस्परैगस, ब्रोकली, पत्ता गोभी, मेयोनीज़ आदि मे डालें।
• जायफल: फल, पाई क्रस्ट, लेमनेड, आलू, चिकन, मछली, टोस्ट, पुडिंग आदि मे डालें।
• अनियन पाउडर (अनियन साल्ट नहीं): लीन मीट, स्ट्यू, सब्जियाँ, सलाद, सूप।
• शिमला मिर्च: लीन मीट, फिश, सूप, सलाद, सब्जियों आदि मे इसे थोड़ा सा भी मिला देने से फ्लेवर एकदम बादल जाता है।
• अजवायन: लीन मीट, मछली, सूप, सलाद, सूखी सब्जियां बनाएं तो इसे इस्तेमाल करें।
• पुदीने का रस: पुडिंग, फल, लेमन जूस, चटनी आदि मे इसे इस्तेमाल करें।
• रोज़मेरी: चिकन, आलू, मटर आदि मे डालें।
• तेजपत्ता: लीन मीट, स्टियु, बिस्कुट, टमाटर, हरी बीन्स, मछली, प्याज, बीन्स आदि मे डालें।
• हल्दी: लीन मीट, मछली, चावल आदि मे मिलाएँ।

लो-अथवा-नो-सोडियम लेबल वाले प्रॉडक्ट चुनें
कोई भी डिब्बाबंद प्रॉडक्ट, बीन्स, सूप, टमाटर या कोई भी ऐसी चीज जिसमे ज्यादा सोडियम होने की संभावना हो, खरीदते समय वही प्रॉडक्ट खरीदें जिसके लेबल पर कम से कम सोडियम कि मात्रा बताई गई हो। प्रोसेस्ड फूड के इस्तेमाल से बचें। ऐसा करके आप सोडियम इनटेक मे काफी कमी ला सकते हैं।

ढूंढें सही सब्सिच्यूट
अधिकतर साल्ट सब्सिच्यूट पोटेशियम क्लोराइड से बनते हैं। पोटेशियम ब्लड प्रेशर कम करने मे सहायक होता है। तो इसका कोई सब्सिच्यूट ट्राइ करें। अगर आपको इसका स्वाद पसंद आ जाए।

डाइनिंग टेबल पर न रखें साल्ट शेकर
यह बेहद आसान लेकिन प्रभावकारी तारीक है। अक्सर हम बिना सोचे अपने खाने मे बार-बार नमक का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे साल्ट शेकर को दूर रखकर आप इस आदत से छुटकारा प सकते हैं।

Share:

Leave a reply