बैड न्यूज है फैंटम प्रेग्नेंसी

Share:

phantom pregnancyअपनी बढ़ती टमी और चक्कर आने की स्थिति को कई महिलाएं गर्भावस्था समझ लेती हैं। लेकिन चेकअप के लिए डॉक्टर के पास पहुंचने पर उन्हें पता चलता है कि वे गर्भवती नहीं हैं बल्कि किसी और वजह से बीमार हैं। इस अवस्था को फैंटम प्रेग्नेंसी, फॉल्स प्रेग्नेंसी या सियोडोसिएसिस कहते हैं। अगर इस तरह का वाकया आपके सामने आए तो प्रेग्नेंट न होने के लिए उदास होने के बाजाए अपना पूरा चेक-अप कराएँ:

आम लक्षण
आमतौर पर इस स्थिति में किसी भी महिला के लक्षण एक सामान्य गर्भवती महिला के समान ही होते हैं जैसे वजन बढऩा, चक्कर आना, सुबह उठने पर थकान लगना, जी घबराना या उल्टियां होना, माहवारी में अनियमितता या ब्रेस्ट के आकार में परिवर्तन होने पर महिला खुद को प्रेग्नेंट समझने लग जाती है।

जांच बताती है असलियत
जब कोई महिला डॉक्टर के पास जाती है तो उसकी प्रेग्नेंसी जांच के लिए पेल्विस एग्जामिनेशन और अल्ट्रासाउंड किया जाता है। अल्ट्रासाउंड के दौरान जब कोई भ्रूण दिखाई नहीं देता या कोई धड़कन सुनाई नहीं देती तो डॉक्टर इसे फैंटम प्रेग्नेंसी डिक्लेयर कर देते हैं। कई मामलों में गर्भवती न होने पर भी महिला के यूट्रस में फैलाव और गर्भाशय मुलायम हो जाता है। हालांकि फैंटम प्रेग्नेंसी के मामले में यूरिन प्रेग्नेंसी टेस्ट हमेशा नेगेटिव होता है, लेकिन बाकी लक्षणोँ को देखते हुए महिलाएँ इसे स्वीकार नहीं कर पाती हैं।

यंग महिलाएँ होती हैं ज्यादा शिकार
ज्यादा शिकार 30 से 40 साल की महिलाएं होती हैं या जो महिलाएं प्रेग्नेंसी के मामले में बेहद भावुक हों। जिन महिलाओं के बच्चे की हाल ही में मृत्यु हुई हो या उनका मिसकैरिज हुआ हो, उन्हें भी इसकी आशंका रहती है क्योंकि डॉक्टर इसके लिए शारीरिक और मानसिक दोनों कारणों को जिम्मेदार मानते हैं। इन्हें मानसिक रूप से ज्यादा मजबूत होने की जरूरत होती है।

हर रोज सामने आते हैं मामले
रोजाना जन्म लेने वाले औसतन 22,000 बच्चों की तुलना में ऐसे मामले पांच से छह होते हैं। यह स्थिति किसी भी आयु वर्ग की महिला के साथ हो सकती है। ऐसा भी कहा जाता है कि 1531-1558 के दौरान इंग्लैंड की महारानी मैरी भी दो बार फैंटम प्रेग्नेंसी का शिकार हुईं जब उनके डॉक्टर ने यूट्रस के ट्यूमर को गर्भावस्था समझ लिया।

जरूरी है भावनात्मक सहयोग
गर्भावस्था का समय महिला के लिए बेहद उत्साह से भरा होता है। ऐसे में जब उसे पता चलता है कि वह प्रेग्नेंट नहीं है तो उसे काफी हताशा होती है इसलिए डॉक्टर को जितना जल्द हो महिला और उसके परिवार को इस बारे में बता देना चाहिए और उसे मैंटली सपोर्ट करना चाहिए।

Share:

Leave a reply