बच्चे के जन्म से पिता को डिप्रेशन

906
0
Share:

male-infertility-treatmentबच्चे के आने की खबर से लेकर उसका जन्म होने तक पूरे परिवार में ख़ुशी का माहौल होता है। आखिर हो भी क्यों न घर के आँगन में एक नन्हा सा मेहमान जो आने वाला होता है। लेकिन इसके साथ एक चिंतित कर देने वाली समस्या भी सामने आ जाती है।

दरअसल एक शोध में दावा किया गया है कि बच्चे के जन्म को लेकर जिस तरह उसके माँ में डिप्रेशन का खतरा रहता है वैसा ही खतरा पिता के अंदर भी बना रहता है।

शोध के दौरान हुआ खुलासा

न्यूज़ीलैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ ऑकलैंड में एक शोध किया गया है। इसके दौरान यह खुलासा हुआ है कि प्रति एक हज़ार पुरुषों में से 23 पुरुषों में पत्नी या साथी की गर्भावस्था की शुरुआती तीन महीनों में तनाव की आशंका देखी गई है। जबकि 43 पुरुषों में बच्चे का जन्म होने के बाद तनाव के लक्षण दिखाई देने लगते हैं।

इस शोध के दौरान साढ़े तीन हजार से अधिक पुरुषों के आंकड़े का अध्ययन किया गया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि अवसाद से सम्बंधित जांच बच्चे की माँ के साथसाथ पिता की भी होनी चाहिए । शोधकर्ता डॉ लीसा अंडरवुड कहती है, बच्चे के होने वाले मातापिता के हार्मोंस मे परिवर्तन होता है। इसके साथ ही उनके मस्तिष्क में भी बदलाव होते हैं। लेकिन अवसाद होने की आशंका महिलाओं में अधिक होती है। यह शोध साइकायट्री जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

पिता का डिप्रेशन में आने का कारण

बच्चे की माँ से उसके सम्बन्ध अच्छे नहीं हैं या पिता की नौकरी या सेहत से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या हो तो उनके अवसादग्रस्त होने की संभावना बढ़ जाती है। जिन पुरुषों के परिवार में डिप्रेशन का इतिहास रहा हो उनके अत्यधिक अवसादग्रस्त होने की आशंका बढ़ जाती है।

Share:

Leave a reply