सीनियर सिटिज़न और डायबीटीज़

Share:

senior-citizen-diabetes-care
मैंने 1970-80 में चिकित्सा का अध्ययन किया है, हमें 70 साल से अधिक उम्र में डायबीटीज़ के मरीज़ की समस्याओं की कल्पना नहीं थी क्योंकि हम बुज़ुर्गों पर ध्यान केंद्रित नहीं किया करते थे, लेकिन आज मेरे रोगियों में 30% से अधिक 70 वर्ष से अधिक आयु के हैं। आज भी 70 साल की उम्र से ऊपर के 30% से अधिक लोगों को स्वयं को डायबीटीज़ होने का पता नहीं है। अच्छी तरह से नियंत्रित डायबीटीज़ के साथ आज के वरिष्ठ नागरिक अब न केवल खुश रह रहे हैं, स्वस्थ भी हैं। वह न केवल अपना घर, अपना काम धंधा सही मुस्तैदी से सम्भाल रहे हैं। इसका मूल कारण है डाक्टरों और जनता, दोनों को डायबीटीज़ के बारे में जागरूकता :

जांच और ज्यादा मुश्किल हो सकता है
डायबीटीज़ की जांच अक्सर उम्र बढ़ने के साथ कठिन होती है क्यूँकि अन्य सामान्य स्थितियों के आधारभूत लक्षण पहले से ही उपस्थित होते हैं। वरिष्ठ नागरिकों को सिर्फ बुढ़ापे के लिए तैयार करने के बजाय, अधिक प्यास और अक्सर पेशाब के लक्षणों पर ध्यान देना चाहिए। मोतियाबिंद या अन्य उम्र से संबंधित नेत्र रोग भी समवर्ती हैं तो ऐसी दृष्टि समस्याओं के रूप में डायबीटीज़ छिपा हो सकता है। थकान और हाथ पैरों में कमजोरी भी उम्र बढ़ने के सिर्फ एक प्राकृतिक प्रक्रिया के रूप में अनदेखी की जा सकती है।

जटिलताएं अधिक होने की संभावना
डायबीटीज का अगर लम्बे समय तक जांच और इलाज नहीं किया जाता है तो जटिलताएं इस कदर बढ़ जाती हैं की इन्हें कंट्रोल में लाना मुश्किल हो जाता है। सामने आ सकती हैं ये दिक्कतें:
– अंधापन
– किडनी फेलियर
– नर्व डीजीज और बिगड़ा ब्लड सर्कुलेशन
– हृदय रोग
– आँखों के पर्दे में छेद होने का खतरा

किफ़ायती स्वास्थ्य देखभाल
वरिष्ठ नागरिकों के लिए डायबीटीज़ देखभाल के तहत, डॉक्टर की फीस, दवाओं का खर्च और अन्य देखभाल काफी महंगा पड़ता है। देश मे प्राइवेट स्वास्थ्य बीमा आज भी महंगा है। ऐसे मे उन संस्थाओं की उपयोगिता बढ़ जाती है, जो स्वास्थ्य संबंधी निशुल्क सुविधाएं मुहैया कराती हैं। कार्डियो डायबिटीज रिसर्च सोसायटी (CDRs) भी इनमे से एक है।

पर्याप्त पोषण
कभी कभी एक निश्चित आय की लागत में कटौती और आर्थिक कठिनाइयों में जीने की कोशिश का मतलब है, स्वस्थ भोजन को पूरा करना महंगा और मुश्किल हो सकता है। अपने डॉक्टर या कम कीमत भोजन के कार्यक्रमों के बारे में पोषण विशेषज्ञ से पूछिए।

हर उम्र मे जरूरी है एक्सरसाइज
शारीरिक गतिविधि के फायदे सभी वरिष्ठ नागरिकों के लिए है, लेकिन विशेष रूप से डायबीटीज़ पीड़ित वरिष्ठ नागरिकों के लिए व्यायाम अत्यन्त फायदेमंद है। व्यायाम ब्लड शुगर कंट्रोल में रखने में मदद कर सकते हैं। अपर्याप्त व्यायाम डायबिटीज़ के साथ हस्तक्षेप कर सकते हैं। स्थानीय जिम और सामुदायिक केंद्रों और रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशनों को बुजुर्गों के अनुकूल सुविधाओं वाले सेंटर बनाने पर ज़ोर देना चाहिए। लेकिन कोई भी व्यायाम कार्यक्रम शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

तनाव प्रबंधन ( Stress Management )
तनाव सिर्फ कामकाजी लोगों को ही नहीं होता, रिटायर्ड लोग भी इससे परेशान हैं। इनमे तनाव के मूल कारण हैं आर्थिक संकट और सामाजिक एवं घरेलू समस्याएँ।
82 साल के एक बुजुर्ग जगमोह शारीरिक जांच के लिए डॉक्टर के पास गए। उनकी समस्या थी कि उनकी ब्लड शुगर अक्सर सुबह के समय 100 mg% से भी कम और भोजन के 2 घंटे बाद 270 से अधिक हो जा रहा था। साथ ही उनकी अत्यधिक कम ब्लड शुगर की शारीरिक और मानसिक रूप से पहचानने की असमर्थता एक ख़तरनाक रूप लेती जा रही थी। गहन जाँच से मालूम हुआ कि सुबह 2-5 बजे के बीच उनकी ब्लड शुगर नियमित रूप से 90mg% से कम रह रही थी। उनकी दवा की खुराक रात के खाने से पहले कम की गई। कुछ दिन बाद समस्या का समाधान हो गया। तो इस तरह की दिक्कतें भी बुजुर्ग मरीजों के सामने आती हैं, जिनपर गौर करना जरूरी होता है।

रखें इन बातों का ध्यान
• यदि आपकी अपने ब्लड ग्लूकोज पर नजर है, तो आप इसे आराम से कंट्रोल मे रख सकते हैं
• आप कहीं भी जाएँ, आप के पास अपना मधुमेह पहचान पत्र जरूर होना चाहिए
• घूमना, योग करना, गोल्फ खेलना, इस तरह हल्का व्यायाम किया जा सकता है
• दो-दो घंटे के अंतराल मे थोड़ा-थोड़ा कुछ खाते रहें, हमेशा स्वस्थ और संतुलित आहार लें

• ब्लड ग्लूकोज कम होने के लक्षणों को पहचानें
• हमेशा अपने साथ चीनी या ग्लूकोज रखें
• अपने बटुए या पाकेट डायरी में, अपनी दवाओं का पर्चा अवश्य रखें
• गिरने से बचें अपने बाथरूम में , फुटपाथ पर , और सीढ़ियों पर
• अपनी आँखें एक बार 6 महीने में , गुर्दे हर साल और हर जन्मदिन पर दिल की जाँच करवाए

मेडिटेशन
मेडिटेशन पर स्टडी में यह पता चला है कि यह केवल तनाव से राहत प्रदान नहीं करता है, बल्कि भविष्य मे होने वाले तनाव से भी बचाता है। वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह एक आइडियल स्ट्रेस रिलीवर है। इसलिए रोज मेडिटेशन की प्रैक्टिस करें।

Share:

Leave a reply