स्टॉप स्टंटिंग

1474
0
Share:

stop-stunting-confrence
दक्षिण एशिया में कुपोषण और अपर्याप्त सफाई व्यवस्था की वजह से लाखों बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास अवरुद्ध हो रहा है। नई दिल्ली में यूनिसेफ की स्टॉप स्टंटिंग कांफ्रेंस में इस स्थिति को सुधारने के उपायों पर विचार किया गया।

कांफ्रेंस का मत था कि बाधित बाल विकास के मामलों में कमी लाने के लिए हमें बच्चों की फीडिंग,महिलाओं के पोषण और हाउसहोल्ड सैनिटेशन में जबरदस्त सुधार करना होगा। दक्षिण एशिया के देशों में रहने वाले अनेक बच्चों में अपूर्ण ग्रोथ अथवा स्टंटिंग की शुरुआत जन्म से पहले ही शुरू हो जाती है क्योंकि उनकी माताएं या तो कुपोषित होती हैं या बहुत कच्ची उम्र में गर्भवती हो जाती हैं।

दक्षिण एशिया में यूनिसेफ की रीजनल डायरेक्टर केरिन हलशॉफ ने कांफ्रेंस में कहा कि दक्षिण एशिया दुनिया में बाधित बाल विकास का मुख्य केंद्र है जहां पांच साल से कम आयु वाले 6 करोड़ से अधिक बच्चे सही ढंग से विकसित नहीं हुए हैं। एक तिहाई महिलाएं अंडरवेट और एनीमिक हैं। दो-तिहाई बच्चों को ऐसी खुराक दी जाती है जो हैल्दी ग्रोथ और डेवलपमेंट की न्यूनतम आवश्यकताओं को पूरा नहीं करती। 40 प्रतिशत परिवार खुले में शौच करते हैं। हमें इस स्थिति को तुरंत बदलना चाहिए।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply