जानें स्वाद और सेहत के 11 राज़

Share:

taste_matters_to_health
खाने मे स्वाद (Taste) का रोल बड़ा अहम होता है। कुछ लोग तो यह भी कहते हैं कि ‘हम तो जी स्वाद के लिए खाते हैं, स्वास्थ्य अपने आप बन जाएगा’। लेकिन यह बात सही मायने मे हर जगह फिट बैठे यह जरूरी नहीं। कुछ स्वाद आपकी सेहत बना सकते हैं तो कुछ बिगड़ भी सकते हैं। हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. के. के. अग्रवाल से बात कर हम आपको बता रहे हैं स्वाद और सेहत के 11 राज़:

1. स्वीटेंड (sweetened) पेय क्या है?
कोई भी तरल, जिसमे 10% से अधिक शुगर हो, एक स्वीटेंड पेय कहलाता है। स्वीटेंड पेय का रोजाना इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

2. स्वीट डिशेज का क्या?
दो तरह की स्वीट डिशेज होती हैं। एक मे 50% शुगर होता है (ये शुगर सिरप से बनती हैं, जैसे रसगुल्ला, गुलाबजामुन आदि) और दूसरे मे 30% से अधिक शुगर होता है (सामान्य मिठाइयाँ जैसे बर्फी, लड्डू आदि)। ज्यादा इस्तेमाल से दोनों ही नुकसान पहुँचती हैं।

3. खाने मे विभिन्न प्रकार के स्वाद कौन से हैं?
किसी भी खाने मे 6 तरह के स्वाद की पहचान की गई है; ये हैं, मीठा, खट्टा, तीखा, नमकीन, कसैला, कड़वा।

4. कौन सा स्वाद शरीर मे एसिडिटी बढ़ाता है?
जिन चीजों का स्वाद तीखापन लिए हुए होता है (काली मिर्च, मिर्ची, प्याज, लहसुन, लौंग, अदरक और सरसों), खट्टा (रसीले फल, टमाटर, बेरी, आचारी चीजें) और नमकीन (टेबल साल्ट, सोया सॉस, साल्टेड मीट और मछली)। ये चीजें शरीर मे एसिडिटी बढ़ती हैं।

5. किन चीजों से घटता है शरीर का वजन?
वो चीजें जिनमे कसैलापन होता है (साग, सूखे बीन्स, हरा सेब, अंगूर का छिलका, गोभी, चाय, अनार), तीखा (काली मिर्च, मिर्च, प्याज, लहसुन, लौंग, अदरक, सरसों) और कड़वा (हरी पत्तेदार सब्जियाँ, हरी और पीली सब्जियाँ, अजमोद, ब्रोकली, अंकुरित अनाज और चुकंदर)। ये चीजें शरीर का वजन घटाती हैं।

6. कौन सी चीजें शरीर का वजन बढ़ाती हैं?
वे चीजें जो मीठी होती हैं (अनाज, चावल, ब्रेड, डेयरी शुगर, शहद, चिकन, मछली, पास्ता) तीखा (टेबल साल्ट, सोय सॉस, साल्टेड मीट, मछली)। इनसे शरीर का वजन बढ़ता है।

7. इनमे से कौन सा बेहतर है-आलू मेथी या आलू मटर?
आलू मेथी, आलू मटर से बेहतर है क्योंकि आलू और मटर दोनों स्वाद मे मीठे होते हैं। आलू मे कार्बोहाइड्रेट ज्यादा होता है और यह हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स मे आता है, जो कि हार्ट के लिए अच्छा नहीं होता। मटर मे भी कार्बोहाइड्रेट ज्यादा होता है, मगर आलू जितना नहीं होता। आलू मे मेथी के पत्ते मिला देने से आलू खाने से होने वाला नुकसान बैलेंस हो जाता है। क्योंकि मेथी मे डाइटरी फाइबर ज्यादा होता है जो कार्बोहाइड्रेट के पाचन और संचयन (एब्जोर्प्शन) को कम करता है। आयुर्वेद के मुताबिक भी मीठे स्वाद मे कड़वे स्वाद को मिलाकर खाना हमेशा अच्छा रहता है।

8. खाने मे एपीसी क्या है?
एपीसी को अचार-पापड़-चटनी के रूप मे डिफ़ाइन किया जाता है। इनके इस्तेमाल से जहां तक हो सके बचना चाहिए और अगर खाएं भी तो कम मात्रा मे क्योंकि इसमे नमक काफी ज्यादा होता है जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है।

9. अगर मुझे दूध नहीं पचता है तो मुझे क्या करना चाहिए?
आप इसे कई बार उबालकर ट्राई कर सकते हैं अथवा अदरक के साथ उबालकर ले सकते हैं।

10. मुझे सब्जियाँ कैसे धोनी चाहिए?
अपने फल व सब्जियाँ कुछ देर के लिए पानी मे डालकर छोड़ दें और फिर इसे बहते पानी मे 10-15 मिनट तक अच्छी तरह साफ करें।

11. पानी मे भिगोकर रखने से सब्जियों का पोटैशियम तो नहीं चला जाएगा?
अगर आप बिना काटे सब्जियों को पानी मे डालेंगे तो इसका पोटैशियम खत्म नहीं होगा लेकिन अगर आप इन्हें काटकर पानी मे भिगोएंगे तो जरूर पोटैशियम खत्म हो सकता है। इसके साथ ही, अगर आप सब्जियाँ उबालते हैं और उसका पानी फेंक देते हैं, तब भी उसका पोटैशियम खत्म हो सकता है।

Share:

Leave a reply