ऐसे मिलेगी पिम्पल्स फ्री स्किन

Share:

tips for pimples free skinपिम्पल्स एक ऐसी समस्या है जो हर किसी की लाइफ में आती है। टीनएज की शुरुआत के साथ ही पिम्पल्स भी लाइफ में दस्तक दे देते हैं। एक बार शुरुआत हो जाने के बाद इससे छुटकारा पाना मुश्किल हो जाता है। हालांकि इससे बचाव और इसके नियंत्रण के दावे करने वाले उत्पाद बाजार में पटे पडे हैं। मगर इनका कोई खास असरदार नहीं साबित होते हैं। एक्स्पर्ट्स का मानना है कि यदि जीवनशैली में थोडा सुधार लाया जाए तो इस समस्या पर

काबू पाया जा सकता है। कब्ज की समस्या, पर्याप्त पानी न पीना, हार्मोनल असंतुलन और अच्छी डाइट, पूरी नींद न लेना, त्वचा का ख्याल न रखना, तनाव जैसी समस्याएं मुहांसों का कारण होती हैं। अपनी रोजमर्रा की जीनवशैली में कुछ बातों को शामिल कर आप अपनी त्वचा को कील-मुहांसों से बचा सकते हैं।
पानी : शरीर की आंतरिक देखभाल काफी महत्वपूर्ण है। ज्यादातर लोग पानी तभी पीते हैं, जब वे प्यासे होते हैं, लेकिन दिन में कम से कम दस गिलास पानी पीना आवश्यक है। इससे आपके शरीर से टॉक्सिंस निकल जाते हैं। परिणामस्वरूप आपकी त्वचा में निखार आता है।

ताजे फल : फल खाना भी स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी होता है। इससे आपकी त्वचा में निखार आता है। अपनी रोजमर्रा की डाइट में सलाद और फलों को शामिल करें।

जंक फूड से परहेज : ज्यादा जंक फूड खाना आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होता है। फिजी ड्रिंक्स, फ्राइड फूड, चॉकलेट और आइसक्रीम कम खाएं।

चाय-कॉफी : चाय, कॉफी और एल्कोहल का सेवन कम करें। अगर आप चाय के बिना नहीं रह सकते हैं, तो आप हर्बल चाय पीने की शुरुआत करें। लेमनग्रास, दालचीनी चाय और कैमोमिल चाय आपके लिए बेहतर विकल्प है। लैमनग्रास चाय कैंसर जैसे रोगों में असरदार होती है, तो कैमोमिल चाय हाइपरटेंशन को कम करती है।

व्यायाम : खून के प्रवाह में सुधार के लिए जरूरी है कि आप खुली हवा में व्यायाम करें। इसके अलावा आप योगा, एरोबिक्स के द्वारा भी अपने शरीर को तरो-ताजा रख सकते हैं।

छुएं नहीं : मुहांसों को छुएं या दबाएं नहीं। बार-बार छूने से इंफेक्शन बढ़ सकता है।

बालों में डैंड्रफ : बालों में डैंड्रफ के कारण भी मुहांसों की समस्या होती है। अकसर लोग डैंड्रफ के कारण बालों में तेल लगाना छोड़ देते हैं, लेकिन आवश्यक है कि डैंड्रफ के दौरान बालों में नारियल का तेल लगाएं और स्कल्प में नींबू लगाएं।

हार्मोन टेस्ट : समय-समय पर हार्मोन के स्तर की जांच कराते रहें। कई बार त्वचा की समस्याएं हार्मोनल असंतुलन के कारण होती है।

Share:

Leave a reply