…ताकि कभी न निकले आपके घुटनों का दम

Share:

आमतौर पर हम अपने घुटनों को लेकर तब तक लापरवाह रहते हैं, जब तक इसमें कोई चोट न लग जाए अथवा उम्र का असर इन पर हावी न होने लगे। लेकिन, यह रवैया छोड़कर अगर हम शुरू से ही कुछ सामान्य बातों का ध्यान रखें तो घुटनों के जोड़ों को लंबे समय तक स्वस्थ रख सकते हैं। सफदरजंग स्पोर्ट्स इंजरी सेंटर के सीनियर आर्थोपेडिक सर्जन डॉ. दीपक जोशी दे रहे हैं आपको इस बारे मे जरूरी टिप्स:

पैरों की मांसपेशियों को बानाएं मजबूतः आपके शरीर के किसी भी जोड़ को सपोर्ट करने में मांसपेशियों की भूमिका सबसे अहम होती है। अगर आपकी मांसपेशियां दुरूस्त रहेंगी तो जोड़ भी लंबे समय तक हेल्दी रहेंगे। पैर और जांघों की मांसपेशियों को मजबूत बनाए रखने के लिए एक्सरसाइज करें। घुटनों में लचीलापन बनाए रखने के लिए नियमित रूप से स्टृचिंग एक्सरसाइज करें।

भारी-भरकम एक्सरसाइज से पहले करें वॉर्मअपः घुटनों में लगने वाली चोट बाद में इसके बेकार होने की सबसे बड़ी वजह बनती है, खासतौर से ऐसे लोगों में जो एक्टिव रहते हैं। इससे बचने के लिए कभी भी गंभीर एक्सरसाइज या स्पोर्ट्स शुरू करने से पहले हल्की एक्सरसाइज से वॉर्म अप जरूर करें। इससे किसी भी तरह की चोट के खतरे से आप बच जाएंगी। अगर कठोर सतह पर खेल रहे हैं तो नी कैप्स जरूर पहनें।

वजन बढ़ने से रोकेंःशरीर का वनज सामान्य से काफी ज्यादा होना घुटनों के फेल होने अथवा ऑस्टियोआर्थराइटिस की बड़ी वजह है। एक्सरसाइज करके और खान-पान को कंटृल में रखकर अपने शरीर का वजन सामान्य लिमिट में रखें। बहुत ज्यादा जंक फूड खाने से बचें।

बहुत कठोर एक्सरसाइज न करेंः हल्की एक्सरसाइज करें। हमेशा ऐसी एक्सरसाइज करें जिसमें घुटनों पर खिंचाव न आए। इस पर जरूरत से ज्यादा भार या दबाव न डालें, ऐसा करना बहुत हानिकारक हो सकता है। पालथी मारकर न बैठें और न ही घुटनों को झटका दें, इससे घुटनों पर बहुत ज्यादा दबाव पड़ता है। जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज और जिमिंग घुटनों में चोट की दूसरी सबसे बड़ी वजह है।

हेल्दी डाइट लेंः ऐसी डाइट लें जिसमें कैल्शियम, विटामिन डी, प्रोटीन और एंटी ऑक्सिडेंट भरपूर मात्रा में हों। इससे आपकी हड्डियां स्वस्थ रहेंगी, मांसपेशियां मजबूत होंगी और जोड़ समय से पहले कमजोर होने से बचेंगे। दूध, दही, बादाम, पालक, मछली, अनाज, फल जैसे कि संतरे और नींबू ये सारी चीजें आपके घुटनों को हेल्दी रखने में मददगार साबित होंगी।

दर्द या चोट का रखें ध्यानः घुटनों में होने वाले किसी भी तरह के दर्द को हल्के में न लें। अगर आपके घुटनों में किसी भी तरह की असहजता या टीस महसूस हो तो कुछ दिनों तक इसे पूरी तरह आराम दें। अगर इसके बाद भी आराम न मिले तो तुरंत किसी ऑर्थेपेडिक एक्सपर्ट से सलाह लें। लिगामेंट में कोई भी परेशानी अगर वक्त रहते ठीक नहीं की गई तो यह घुटनों को डैमेज कर सकती है।

Share:

Leave a reply