ट्राईक्लोजन से लिवर कैंसर का खतरा

1668
0
Share:

toothpaste-chemical-linked-to-cancer
वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि कॉस्मेटिक्स, हैण्ड वॉश (Handwash) साबुन, डेटर्जेंट्स, शैम्पू और टूथपेस्ट (toothpaste) में इस्तेमाल किए जाने वाला एक केमिकल (chemical) ट्राइक्लोजन (triclosan) लिवर कैंसर को बढ़ावा देता है। सेन डिएगो स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैरोलीना (university of carolina san diego) में की गई एक स्टडी के मुताबिक ट्राईक्लोसन नामक केमिकल से चूहों में लिवर कैंसर की ग्रोथ को बढ़ावा मिलता है।

गौरतलब है कि बाथरूम और किचन प्रॉडक्ट्स में एंटी -बैक्टीरियल एजेंट के रूप में इस केमिकल को मिलाया जाता है। स्टडी से पता चला कि जिन चूहों को छह महीने तक हर रोज तीन ग्राम ट्राईक्लोसन की खुराक दी गई उनके लिवर डेमेज हो गए और उनमें लिवर ट्यूमर उत्पन्न होने का खतरा पैदा हो गया।

रिसर्चरों का कहना है कि एक ग्राम टूथपेस्ट में करीब 0.03 प्रतिशत ट्राईक्लोसन होता है तथा चूहों के छह महीने इंसानों के18 साल के बराबर होते हैं। प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज पत्रिका में प्रकाशित स्टडी में वैज्ञानिकों ने कहा है कि चूहों में ट्राईक्लोसन और लिवर कैंसर के बीच जो लिंक देखा गया है वह इंसानों की हैल्थ के लिए भी प्रासंगिक है क्योंकि यह केमिकल इंसानों में भी इस तरह के परिवर्तन उत्पन्न कर सकता है। लेकिन दूसरे वैज्ञानिकों ने इस स्टडी के नतीजों पर सावधानी बरतने को कहा है। उनका कहना है कि इस स्टडी से ट्राईक्लोसन और लोगों के स्वास्थ्य बीच कोई सीधा संबंध साबित नहीं होता।

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply