ये 10 गलतियाँ पड़ती हैं दिल पर भारी

Share:

heart problem

ऐसे तो ये बातें काफी सामान्य लगती हैं, लेकिन आपकी हेल्थ पर इनका असर गहरा होता है। खासतौर से आपके दिल पर। आइये जानते हैं कैसे। तो पढ़िये इन 10 आम गलतियों के बारे मे और इनसे बचकर रहिए हमेशा हेल्दी:

1. पतला होने के लिए ब्रेकफास्ट छोड़ो
अक्सर लोग यह कहकर ब्रेकफास्ट करने से कतराते हैं कि सुबह-सुबह कुछ खाएंगे नही तो ज्यादा कैलोरी बर्न होगी, लेकिन सच तो यह है कि ब्रेकफास्ट करने वाले लोग नही करने वालों की तुलना में ज्यादा पतले होते हैं। नाश्ता नहीं करने से मिड मॉर्निंग में ब्लड शुगर का लेवल डाउन हो जाता है, जिससे भूख ज्यादा लगती है और बाद में आप जरूरत से ज्यादा खा लेते हैं। इतना ही नहीं, ऐसे लोगों को रात में भी ज्यादा भूख लगती है, शरीर एक्स्ट्रा कैलोरी इकट्ठा करने की कोशिश करता है, जिसके चलते पेट के आस-पास फैट जमा होता है। तमाम रिसर्च में पाया गया है कि सुबह के नाश्ते में किसी भी फॉर्म में प्रोटीन, प्लेन दही और बेरी, ग्रिल की हुई मछली, एक ऑमलेट या ड्राई फ्रूट्स के साथ मुजली जैसी चीजें खाने वाले लोग ज्यादा पतले होते हैं। अगर आप नाश्ता नहीं कर सकते तो सो कर उठने के एक घंटे बाद 1 मुट्ठी बादाम या अखरोट खाना भी काफी होगा।

2-वीकेंड पर कुछ भी खाने का हक बनता है
बहुत सारे लोग यह मानते हैं कि पूरे हफ्ते हेल्दी खाना खाने के बाद वीकेंड पर खुद को ट्रीट देना बनता है। ऐसे में सैडरडे, संडे कुछ भी और कितना भी खाना चाहिए। जबकि सच्चाई यह है कि पांच दिन के परहेज के बाद भी दो दिन का फ्रीस्टाइल आपको मोटा बना सकता है। ऐसे में वीकेंड पर खुद को ट्रीट देने के लिए वीकडेज में एक्स्ट्रा एक्सरसाइज करें और वीकेंड पर एक साथ कई सारी फैटी चीजें खाने के बजाय कोई एक चीज खाएं। मसलन आप पेस्ट्री , केक, पिज्जा, बर्गर, कोल्ड डिंक जैसी फैटी चीजों को मिलाने के बजाय इनमें से कोई एक चीज खा सकते हैं।

3-अरे ये तो हेल्दी है!
आमतौर लोगों को यह कहते हुए जरूरत से ज्यादा खाते देखा जाता है कि, अरे ये तो हेल्दी है। इसे खाकर मोटे नहीं हो जाएंगे। यह सोच आपकी पिफटनेस रिजीम को फेल करने में अहम भूमिका निभाती है। मसलन पिस्ता या मूंगफली का एग्जाम्पल ले जीजिए, ऐसे तो ये चीजें हेल्दी हैं, लेकिन इनमें कैलोरी काफी ज्यादा होती है, तो जिन्हें ओवरईटिंग की आदत है उन्हें ये चीजें सारे उपायों के बावजूद पतला नहीं होने देंगी अथवा और वनज बढ़ा देंगी। ऐसे में कुछ भी खाते समय कैलोरी का ध्यान जरूर रखें, भले ही वह हेल्दी क्यों न हो।

4-टीवी के सामने बैठ कर खाना
ज्यादातर लोग टीवी के सामने बैठकर खाते है। यह अच्छी आदत नहीं होती है, क्योंकि इससे ध्यान बंटता है और व्यक्ति को यह क्लू नहीं मिल पाता है कि कब उसके खाने का कोटा पूरा हो गया। अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, टीवी के सामने अक्सर लोग ओवर ईटिंग करते हैं, खासतौर से बच्चे। अगर आपको भी ऐसा करने की आदत है तो टीवी के सामने अपने पास उतनी ही मात्रा में खाने की चीज रखें जितनी खानी चाहिए, न कि पूरा बैग भरकर अथवा बर्तन भरकर।

5-डिनर हो सबसे खास
एक कहावत हमेशा से प्रचलित है कि नाश्ता महाराजा की तरह, लंच आम इंसान की तरह और डिनर गरीब की तरह करें। डॉक्टर भी इस बात की सलाह देते हैं, बावजूद इसके ज्यादातर भारतीय घरों में उल्टा होता है। डिनर सबसे बड़ा मील होता है और ब्रेकफास्ट अक्सर लिस्ट से बाहर ही रहता है। बेहतर है सुबह के नाश्ते में पेट भर खाएं। दोपहर में हल्का फुल्का खाना लें और रात में सोने से दो घंटे पहले लो कैलोरी वाली डाइट, जैसे कि सब्जियां, फ्रूट सलाद, जूस या दूध जैसी चीजें लें।

6-डिनर के बाद तुरंत सोने की आदत
देर से खाना खाना ही अपने आप में बड़ी समस्या की वजह है, इस पर भी सोने से ठीक पहले खाना खाना सेहत के लिए सबसे खतरनाक बात है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक ऐसा करने वाले लोगों के शरीर में कैलोरी बर्न नहीं हो पाता, जिसे बॉडी लॉक कहते हैं, ऐसे में मोटापा तेजी से बढ़ता है। दिन के समय व्यक्ति का मेटाबोलिज्म सबसे है लेवल पर होता है और मसल्स पूरी तरह काम कर रही होती हैं। ऐसे में जो भी कैलोरी आप लेते हैं वह जल्दी बर्न हो जाती है। मगर रात में, शरीर आराम की स्थिति में आ जाता है, और कैलोरी बर्न होने की प्रक्रिया काफी स्लो हो जाती है। यही वजह है कि देर रात में खाना खाने वालों का वजन तेजी से बढ़ता है।

7-ईटिंग फैमिली स्टाइल
आपसी लगाव बढ़ाने के लिए फैमिली स्टाइल ईटिंग बहुत ही अच्छा तरीका है। लेकिन इसमें खाना परोसने का तरीका अगर गलत हो गया तो इसका उल्टा रिजल्ट दिखता है। आमतौर पर लोग डाइनिंग टेबल पर बड़े सर्विंग बाउल में खाना सर्व करते हैं और लोग अपनी जरूरत के हिसाब से उसमें से प्लेट में लेते हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक इसके बजाय ट्रडीशनल फैमिली स्टाइल डिनर परोसना बेहतर है, जिसमें सबकी प्लेट में सारी चीजें परोस दी जाती हैं। इससे सबको अपने खाने की लिमिट पता रहती है और वे ओवरईटिंग से बच जाते हैं।

8-टेबल पर नमक रखने की आदत
रिसर्च के मुताबिक मोटापा बढ़ाने में नमक का भी अहम रोल हिता है। ऐसे में खाने की तरह नमक भी टेबल पर रखने की आदत आपकी डाइट रिजीम के रिजल्ट को प्रभावित कर सकती है। दरअसल नमक न सिर्फ वॉटर रिटेंशन बढ़ाता है बल्कि हाई ब्लड प्रेशर और खाने के स्वाद को बढ़ाने की भी वजह बनता है। इससे ओवरईटिंग के चांसेज बढ़ जाते हैं। इससे बचने के लिए नमक को खाने की टेबल से दूर रखें। एक बार इसके बिना या कम इस्तेमाल के खाने की आदत हो जाएगी तो एक्स्ट्रा नमक की जरूरत ही महसूस नहीं होगी।

9-तेल का दोबारा इस्तेमाल
इंडिया मे तकरीबन हर घर मे तेल के दोबारा इस्तेमाल की आदत आम बात है। अक्सर देखा जाता है कि शाम को कड़ाही में पकौड़े तले गए और रात में उसी में सब्जी बन गई। या रात में पूरियां तली गईं और बचे हुए तेल को एक बर्तन में स्टोर कर लिया गया, जिसे दो-तीन दिन पराठे अथवा सब्जी बनाने में इस्तेमाल कर लिया गया। यहां तक कि कोई ओकेजन होने पर ज्यादा मात्रा में बचे हुए यूज्ड तेल को स्टोर कर महीनों इस्तेमाल की आदत भी आम है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि यह आदत सेहत के लिए बहुत ही खराब है। कितना भी अच्छा तेल क्यों न हो, एक बार इस्तेमाल के बाद वह खाने योग्य नहीं बचता है। उसे खाने में इस्तेमाल बिल्कुल न करें।

10-खाने के बाद टहलने की आदत
आम भारतीय घरों में, खासतौर से दिल्ली जैसे शहरों में खाना खाने के बाद ईवनिंग वॉक पर जाने की आदत आम है। डॉक्टरों के मुताबिक, कोई भी एक्सरसाइज, वॉकिंग, जॉगिंग खाने से पहले करना ही बेहतर है। खाना खाने के चार घंटे बाद तक ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि इस दौरान शरीर की पूरी मशीनरी खाना पचाने में लगी होती है, अगर इस दौरान एक्सरसाइज का एक्स्ट्रा बर्डेन शरीर पर पड़ेगा तो उसका बुरा असर होगा। वॉकिंग, जॉगिंग के लिए बेस्ट टाइम है सुबह।

Share:

Leave a reply