जब जागरूकता ने तोड़ा पर्दे का तिलिस्म

6114
0
Share:

Breast-cancer-self-examination
गल्फ कंट्री (Gulf Country) मे बना ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) के सेल्फ एग्जामिनेशन (Self Examination) का वर्ल्ड रेकॉर्ड
हमने चेहरे जरूर ढकें हैं लेकिन दिमाग पूरी तरह खुला है। हम यह अच्छी तरह समझते हैं कि बुर्खा और हिजाब हमें बाहरी तत्वों से बचाव देता है, मगर शरीर के भीतर चल रहे बदलावों को लेकर हमें खुद अलर्ट रहना होगा। ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) के लिए सेल्फ एग्जामिनेशन (Self Examination) अभियान का हिस्सा बनकर हमने पूरी दुनिया की महिलाओं को यह संदेश दिया है। ऐसा कहना है खाड़ी देश आबू धाबी (Abu dhabi) की एक महिला का, जो वीपीएस हेल्थकेयर (VPS Healthcare) इस जागरूकता अभियान का हिस्सा थीं।

वीपीएस हेल्थकेयर नेटवर्क ने 15 अक्टूबर को आबू धाबी के जायद यूनिवर्सिटी के कन्वेन्शन सेंटर ब्रेस्ट कैंसर के सेल्फ एग्जामिनेशन अभियान का आयोजन किया जिसमे 971 महिलाओं ने हिस्सा लेकर वर्ल्ड रेकॉर्ड बना दिया। वीपीएस हेल्थकेयर के नाम यह रेकॉर्ड गिनीज़ बुक मे दर्ज हो चुका है। नेटवर्क ने अपनी कॉर्पोरेट सोशल रेस्पॉन्सिबिलिटी के तहत यह अभियान चलाया था। कार्यक्रम का आयोजन अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और विकास मंत्री, ज़ायद यूनिवर्सिटी की प्रेसिडेंट शेखा लूबना बिन्त खालिद अल कासिमी के संरक्षण मे किया गया था।

इससे पहले यह रेकॉर्ड अमेजंस एसोसिएशन के नाम दर्ज था। एसोसिएशन ने वरसाव, पोलैंड मे 8 सितंबर 2012 मे इस तरह के अभियान का आयोजन किया था जिसमे 380 महिलाओं ने हिस्सा लिया था।

वीपीएस हेल्थकेयर की जांच सेवाओं के सीईओ विनय बत्रा कहते हैं, “यूएई मे ब्रेस्ट कैंसर एक बड़ी समस्या है, मगर पश्चिमी देशों की तुलना मे यहाँ बीमारी का पता काफी देर से चल पता है। एडवांस स्टेज मे पहुँच जाने के बाद बीमारी का इलाज कठिन हो जाता है। महिलाएं हमारे समाज का अभिन्न अंग हैं और परिवार एवं समाज के संचालन मे उनकी भूमिका सबसे अहम होती है। ब्रेस्ट कैंसर बड़ी संख्या मे महिलाओं को चपेट मे ले रहा है, लेकिन बहुत सारी महिलाएं यह सोचकर भी जांच नहीं कराती हैं की कैंसर का पता लग गया तो उन्हें ब्रेस्ट का ऑपरेशन करना पड़ेगा। इस तरह के अभियानों के माध्यम से हम महिलाओं मे शुरुआती जांच के महत्व को लेकर जागरूकता लाने का प्रयास कर रहे है, क्योंकि इस बीमारी मे सावधानी ही बचाव की एकमात्र कुंजी है।”

एलएलएच हॉस्पिटल आबू धाबी के डॉ. इसराक अल अतर कहते हैं, “ब्रेस्ट कैंसर का सबसे आम लक्षण है ब्रेस्ट मे गांठ होना। अगर शुरुआत मे ही बीमारी का पता लग जाए तो मरीज के बचाव की संभावना ज्यादा रहती है।”

सेल्फ एग्जामिनेशन के संबंध मे आयोजित जागरूकता कार्यक्रम के बाद यूके-बेस्ड गिनीज़ वर्ल्ड रेकॉर्ड की रेकॉर्ड मैनेजमेंट टीम की डायरेक्टर तुरात अलसराफ़ ने सैकड़ों महिलाओं के सामने परिणामों की घोषणा की। उन्होने ब्रेस्ट कैंसर के लिए सेल्फ एग्जामिनेशन के अभियान के मामले मे आज तक के इतिहास मे सबसे आगे रहने के ख़िताब से नवाजा।

Share:
0
Reader Rating: (1 Rate)10

Leave a reply