काम के साथ एजिंग भी हो रही है फास्ट

Share:

work-stress-and-skin-problems
लगातार घटों का करना, नाइट शिफ्ट, लगातार रहने वाला स्ट्रेस (Work Stress), नींद पूरी न होना आदि ऐसी स्थितियां हैं जिनमें आज के अधिकतर युवा काम कर रहे हैं, क्योंकि यह वक्त की डिमांड है, लेकिन इसका परिणाम यह हो रहा है कि इनके चेहरे पर उम्र के लक्षण (Skin Problems) भी वक्त से पहले नजर आने लग जाते हैं:

स्ट्रेस और स्किन का संबंध
जीवन में थोड़ा सा तनाव होना कोई बुरी बात नहीं है। इससे आपको बेहतर समय प्रबंधन और जीवन प्रबंधन के लिए प्रेरणा मिलती है। मगर लंबे समय तक लगातार गंभीर तनाव में रहना आपके शरीर और त्वचा के लिए ठीक नहीं। कॉर्टिसोल नाम का हार्मोन जो कि तनाव के समय निकलता है आपकी त्वचा को कई तरह से प्रभावित करता है। इससे आपका ब्लड शुगर स्तर बढ़ सकता है-जिससे आपकी त्वचा के कोलेजन और एलास्टिन को नुकसान पहुंचता है। नतीजा, वक्त से पहले उम्र का असर दिखने लगता है। इससे त्वचा की अपने भीतर पानी को रोक कर रखने की क्षमता भी प्रभावित होती है और आपके चेहरे पर बारीक लाइनें और मांसपेशियों में खिंचाव दिखाई देता है। समय के साथ ये रेखाएं स्थायी झुर्रियों में तब्दील हो जाती हैं। तनाव की वजह से मुंहासे भी बढ़ सकते हैं और रोसेसिया हो सकता है।

नींद से है गहरा नाता
भरपूर नींद लेना अच्छी त्वचा के लिए बेहद जरूरी है। शायद इसीलिए ब्युटी स्लीप का तथ्य हर कोई स्वीकार करता है। नींद के दौरान हमारी त्वचा रिपेयर मोड में चली जाती है। इस दौरान त्वचा को हुए दिनभर के नुकसान की रिपेयरिंग हो जाती है। मगर काम के लंबे घंटे और रात की शिफ्ट के चलते पर्याप्त नींद ले पाना संभव नहीं होता है। ऐसे में त्वचा भी जरूरी आराम से वंचित रह जाती है। आप खुद महसूस कर सकते हैं कि कैसे दो दिन भी नींद पूरी न होने से आपके चेहरे पर थकान और आंखों के नीचे काले घेरे नजर आने लगते हैं।

डाइट और आपकी स्किन
जब आप बेहद मुश्किल परिस्थितियों और तनावपूर्ण माहौल में काम कर रहे होते हैं तब आपका खान-पान भी प्रभावित होता है। खाने की स्वस्थ चीजें ढूंढना तो दूर आपके पास इनके बारे में सोचने का भी वक्त नहीं होता, ऐसे में आपको जो भी आसानी से मिलता है वह खा लेते हैं। और इनमें अधिकतर चीजें ज्यादा तेल, कैलोरी और नमक वाली होती हैं और इनमे फाइबर की मात्रा बेहद कम होती है। तनाव से परेशान अपनी नर्व्ज को आराम पहुंचाने के लिए बहुत से लोग कॉफी, स्मोकिंग और अल्कोहल का भी सहारा लेते हैं जो त्वचा पर विपरीत असर डालती हैं। इनके चलते चेहरे पर मुंहासे, त्वचा का रूखापन और झुर्रियां आती हैं।

क्या है उपाय
अब सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि इन समस्याओं से निबटने के लिए हम क्या कर सकते हैं। हम अपना काम नहीं छोड़ सकते हैं, ऐसे में हम जो कर सकते हैं वह है इससे हमारी सेहत पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को कम करने के लिए कुछ कारगर कदम उठानाः

स्ट्रेस को करें मैनेजः ऐसे उपाय अपनाएं जिससे आपका तनाव कम हो। दिन के आखिर में अपने लिए आधे घंटे का समय निकाले। यह कोई भी वक्त हो सकता है। खुले माहौल में टहलें, खूब एक्सरसाइज करें और योग एवं ध्यान को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं। इससे आपके दिमाग को आराम मिलेगा और तनाव कम होगा।

एक्सपर्ट की सलाह: अगर आपके चेहरे पर तनाव के लक्षण दिखने लगे हैं तो देर न करें। तुरंत डॉक्टर से मिलकर सलाह लें। हो सकता है कि आपको किसी मेडिकल इंटवेंशन की जरूरत हो अथवा सिर्फ तनाव से राहत के उपाय अपनाने की जरूरत हो। नरिशिंग मेडी फेशियल, ऑक्सी थेरेपी और पील्स, लेजर रीजुविनेशन, बोटॉक्स और फिलर आदि आपके चेहरे पर दिखने वाले तनाव के लक्षणों को कम करने में मददगार हो सकते हैं। आंखों के नीचे काले घेरे हटाने और ब्रेकआउट्स ठीक करने के लिए आपको कुछ कॉस्मेटिक हेल्प की जरूरत हो सकती है। डॉक्टर आपको कुछ विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट के सप्लिमेंट लेने की सलाह भी दे सकते हैं जिससे आपकी त्वचा को स्वस्थ बनाने में मदद मिलेगी।

भरपूर नींद ले: अपनी नींद के साथ कोई समझौता न करें। अगर आपको काम के बाद कम समय मिलता है तो अन्य कामों से वक्त की कटौती करें जैसे कि टीवी देखना, सोशल नेटवर्किंग में समय लगाना आदि और जितनी देर हो सके उतना सोएं। अगर आपको ऑफिस जाने में दो घंटे का समय लगता है और आप खुद डृाइव नहीं कर रहे तो इस दौरान भी सो सकते हैं। इतना ही नहीं अगर ऑफिस में आधे घंटे का ब्रेक मिलता है तो वहां भी झपकी लेने से न हिचकें।

By Dr. Chiranjeev Chhabra
Dermatologist, Skin Alive Clinics,
Delhi NCR

Share:
0
Reader Rating: (0 Rates)0

Leave a reply