धोखे से निकाले 2200 महिलाओं का गर्भाशय

Share:

wrong uterus rmoval in kalburgi karnatakaभारत में जहां डॉक्टरों को भगवान माना जाता है। उसी देश में पैसे के लालच मे की गई कुछ डॉक्टरों की चौकाने वाली करतूत सामने आई है। मामला कर्नाटक के कलबुर्गी जिले का है। यहां पैसे के लालच में आकर कुछ डाक्टरों ने लुम्बानी व दलित समुदाय की करीब 2200 महिलाओं के गर्भाश्य निकाल लिए। पुलिस ने डॉक्टरों के एक रैकेट का भंडाफोड़ कर ऐसे कई खुलासे किए है। मामले के खुलासे के बाद कलबुर्गी जिले में स्थानीय महिलाओं ने उपायुक्त कर्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

क्या है पूरा मामला
मीडिया खबरों के मुताबिक इस रैकेट का खुलासा डेढ़ साल पहले ही हो चुका था। उस समय स्वास्थय विभाग ने मामले की जांच कर 4 अस्पतालों का लाइसेंस रद्द भी कर दिया था। लाइसेंस रद्द होने के बावजूद चारों अस्पतालों ने अपना कामकाज जारी रखा और इस रैकेट को चलाते रहे। बताया जा रहा है कि इस दौरान इन अस्पतालों के डॉक्टरों ने करीब 2200 महिलाओं के गर्भाशय निकाल दिया।

गलत जानकारी देकर किए जाते थे ऑपरेशन
पुलिस के खुलासे मे सामने आया कि इन अस्पतालों में जब भी दलित या गरीब तबके की महिलाएं पेट दर्द या अन्य शिकायत लेकर आती थी। तो डॉक्टर उन्हें गर्भाशय में संक्रमण की बात कहकर ऑपरेशन कराने की सलाह देते थे। जिसके बाद धोखे से वे महिलाओं के गर्भाश्य को निकालकर बेच देते थे। वहीं जब महिलाओं की समस्याएं दूर नहीं हुई तो महिलाएं दूसरे डॉक्टरों के पास अपनी समस्याओं का समाधान कराने पंहुची। जिसके बाद इन महिलाओं को अपने साथ धोखाधड़ी किए जाने का पता चला।

Share:

Leave a reply